अमेरिका-चीन ट्रेड वॉर से भारत को लाभ, अपने 350 उत्पादों का निर्यात दोनों देशों को कर सकता है..!

वाणिज्य मंत्रालय ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि अमेरिका-चीन के बीच चल रहे ट्रेड वॉर से भारत को बड़ा लाभ हो सकता है। दोनों देशों ने एक दूसरे पर भारी भरकम टैरिफ लगा रखा है। ऐसे में भारत के 151 उत्पाद ऐसे हैं जो अमेरिका से चीन जाने वाले उत्पादों की स्थान ले सकते हैं। इसी तरह से भारत के 203 उत्पाद ऐसे हैं, जो चीन से अमेरिका जा रहे सामान की जगह ले सकते हैं।

मंत्रालय ने उत्पादों की सूची बनाई

रिपोर्ट में बताया गया है कि ट्रेड वॉर के चलते हमारे लिए अपार संभावनाओं का बाजार खुल गया है। डीजल, एक्स-रे ट्यूब, कॉपर अयस्क और कुछ केमिकल उत्पाद चीन में निर्यात के लिए उपयुक्त हैं। अभी तक वह अमेरिका से इनका आयात करता रहा है।मंत्रालय का कहना है कि इसी तरह से रबड़, ग्रेफाइट इलेक्ट्रोड, प्राकृतिक शहद जैसे आइटम चीन से अमेरिका के बाजार में भेजे जा रहे थे। रिपोर्ट में बताया गया है कि अब दोनों के बीच तनातनी है तो भारत इस तरह के उत्पाद अमेरिका को भेज सकता है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि निर्यात को बढ़ाकर भारत अपना व्यापार घाटा पूरा कर सकता है। अप्रैल-फरवरी 2018-19 के दौरान चीन के साथ व्यापार में भारत को 50.12 अरब डॉलर का घाटा हुआ।फेडरशन ऑफ इंडियन एक्सपोर्ट आर्गेनाइजेशन के अध्यक्ष गणेश कुमार गुप्ता का कहना है कि 2018 में अमेरिका से होने वाला भारत का निर्यात 11.2% तक पहुंच गया है। हालांकि चीन से होने वाला निर्यात 31.4% तक पहुंच गया है। उनका कहना है कि इन दोनों देशों में इंजीनियरिंग और मशीनरी के क्षेत्र में भारत के लिए अपार संभावनाएं हैं।