50 वर्ष पुराना कानून बदलेगी मोदी सरकार, करोड़ों जनता को सीधा लाभ..!

अगर सबकुछ ठीक रहा तो आने वाले दिनों में मोदी सरकार इनकम टैक्‍स से जुड़े 50 वर्ष पुराने कानून में बदलाव कर सकती है. इस बदलाव का सीधा फायदा नौकरीपेशा जनता को मिलने की विश्वास है. आइए जानते हैं कि आखिर क्‍या है इस कानून में और इसका फायदा कैसे मिलेगा.

न्‍यूज एजेंसी आईएएनएस के अनुसार मोदी सरकार मौजूदा प्रत्यक्ष कर कानून (डायरेक्ट टैक्स लॉ) को बदलने की तैयारी में है. मुख्य बात यह है कि इस बदलाव को लेकर मोदी सरकार तकरीबन दो साल से कार्य कर रही है. इसके लिए नवंबर 2017 में समिति का गठन हुआ. इस समिति की जिम्‍मेदारी नए कानून का मसौदा तैयार करने की थी.

बता दें कि समिति को बीते 26 मई को दो महीने का और वक्त दिया गया था. यानी जुलाई के आखिरी तक समिति अपनी रिपोर्ट सरकार को दे सकती है.वहीं मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला आम बजट 5 जुलाई को पेश होने वाला है. ऐसे में यह कहा जा सकता है कि नया प्रत्‍यक्ष कर कानून बजट के बाद लागू होगा.

बदलाव के बाद क्‍या होगा फायदा

न्‍यूज एजेंसी आईएएनएस के अनुसार एक अधिकारी ने संकेत दिए हैं कि बदलाव के बाद नए प्रत्यक्ष कर कानून में न केवल नौकरीपेशा लोगों पर टैक्‍स का भार कम किया जाएगा, बल्कि रिटर्न दाखिल करने की प्रक्रिया भी आसान बनाई जाएगी.

इससे करोड़ों जनता को फायदा होने की भरोसा है. उन्‍होंने कहा कि इस नए कानून के जरिए टैक्‍सपेयर्स की संख्‍या में वृद्धि होगी.यहां बता दें कि पहले प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह कीअगुवाई वाली यूपीए सरकार ने भी डायरेक्ट टैक्स कोड लाकर कर कानून में बदलाव लाने का कोशिश किया था, किन्तु यह लागू नहीं हो सका.