50 साल बाद देखे व्यक्ति ने रंग, ऐसे दिया रिएक्शन

दुनिया में कोई रंग न हो, तो जिंदगी उदास हो जाती है. इसका सबसे अधिक दर्द इस 50 साल के आदमी ने महसूस किया. जिसने पहली बार रंगीन दुनिया देखी. ऐसा ही एक मामला हम आपको बताने जा रहे हैं जिसे 50 वर्ष की उम्र में रंगीन दुनिया देखने को मिली. 
बता दें, कलर ब्‍लाइंडनेस एक बहुत भड़ी समस्‍या है. यही बीमारी 50 साल के क्रिस स्‍मेलसर को थी. उनकी पूरी जिंदगी बेरंग ही बीती. अब एक खास प्रकार के चश्‍मे के माध्‍यम से उन्‍होंने पहली बार रंगीन दुनिया देखी. इसके बाद उनका रिएक्शन बहुत ही हैरानी भरा था और वो काफी खुश भी थे. क्रिस को इससे पहले प्रत्येक चीज काला और सफेद दिखती थी. क्रिस ने जैसे ही यह चश्‍मा लगाया, उन्‍हें सारी चीजें उनके असली रंग में दिखीं. आसमान से लेकर हरी-भरी हरियाली तक, क्रिस को सबकुछ वैसा ही नजर आया जैसा दिखना चाहिए.

देखिये वीडियो --
हैरानी की बात ये है कि, क्रिस को एनकोरोमा चश्मे के चलते सबकुछ साफ-साफ दिखा. उनके 50वें जन्‍मदिन पर दोस्‍तों और परिजनों ने मिलकर यह उपहार दिया. क्रिस इस खास प्रकार के चश्मे का डिब्बा खोलते ही भावुक हो उठे थे और रोने लगे. चश्‍मा आंखों पर पहनते ही वह अपनी फीलिंग्‍स को काबू नहीं कर पाए. इस दौरान वह हंसते भी रहे और रोते भी. वह भागकर खुले आसमान के नीचे आए. हरे भरे पेड़ों को देखा और आसमान की तरफ सर उठाकर देखा... ओह माई गॉड! इसी का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है.