फेसबुक ने डिजिटल करेंसी लिब्रा की डिटेल्स पेश की, दावा- पेमेंट करना मैसेज भेजने जितना सरल होगा

सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक ने अपनी क्रिप्टोकरेंसी से पर्दा उठा दिया है। इसका नाम लिब्रा रखा गया है। इसके संचालन के लिए कैलिबरा नाम का प्लेटफॉर्म भी पेश किया गया है। लिब्रा की ग्लोबल लॉन्चिंग अगले वर्ष होगी। लॉन्च होने के बाद वॉट्सऐप और मैसेंजर के जरिए लिब्रा से भेजा जा सकेगा। कंपनी ने एक डिजिटल वॉलेट सिस्टम भी पेश किया है जहां ट्रांजेक्शन का रिकॉर्ड रखा जा सकेगा।
फेसबुक का कहना है कि लिब्रा के जरिए पेमेंट करना मैसेज भेजने जितना सरल होगा। जबकि, फेसबुक को भारत सहित कई देशों में इस योजना को लागू कराने में समस्या आ सकती है। भारत ने हाल फिलहाल क्रिप्टोकरेंसी के विरुद्ध कई सख्त कदम उठाए हैं।

लिब्रा ग्लोबल करेंसी, ब्लॉकचेन टेक्नॉलॉजी पर होगी
फेसबुक के अनुसार,कैलिबरा कंपनी की नई सबसीडियरी है। इसका मकसद लोगों को वित्तीय सेवाएं प्रदान कराना है। इससे यूजर्स को लिब्रा नेटवर्क का एक्सेस मिल सकेगा। कैलिबरा के मुताबिक फेसबुक लिब्रा क्रिप्टोकरेंसी के लिए एक डिजिटल वॉलेट लाएगा। ये ग्लोबल करेंसी होगी जो ब्लॉक चेन टेक्नॉलॉजी पर आधारित होगी।
वॉट्सऐप और मैसेंजर के अतिरिक्त इसका एक अलग एप भी लॉन्च किया जाएगा। दुनिया भर में तकरीबन 170 करोड़ वयस्कों के पास बैंक अकाउंट नहीं है। वे लिब्रा का प्रयोग लेन-देन में कर सकेंगे। पेटीएम और गूगल पे की तरह ही फेसबुक आलाव सेवाएं भी पेश करेगी। इसमें भी स्कैन कोड दिया जाएगा। सेफ्टी और सिक्युरिटी के लिए एंडी फ्रॉड वेरिफिकेशन का प्रयोग होगा।
प्राइवेसी को लेकर कंपनी ने कहा है कि कुछ मामलों को छोड़कर यूजर के अकाउंट इन्फॉर्मेशन और डेटा किसी भी थर्ड पार्टी को बिना यूजर की इजाजत के शेयर नहीं करेगी। इसका प्रयोग विज्ञापन के लिए नहीं किया जाएगा। जबकि, सीमित मामलों में कंपनी यूजर को सुरक्षित रखने के मकसद से डेटा का प्रयोग कर सकती है।