कचौड़ी वाले का टर्नओवर देख भौंचक रह गई वाणिज्यकर विभाग की एसआइबी टीम, जानिए सच

वाणिज्यकर विभाग की स्पेशल इंवेस्टीगेशन ब्रांच (एसआइबी) की टीम यहां उस दौरान भौंचक रह गई, जब एक छोटी-सी दुकान में कचौड़ी बेचने वाला उनकी पूछताछ में करोड़पति निकला। अफसर भी इसका 60 लाख से अधिक सालाना कमाई जानकर हैरान रह गए। अब इस कचौड़ी विक्रेता को आय व्यय का ब्यौरा देने के लिए नोटिस जारी किया गया है। साथ ही विभाग अब अन्य कचौड़ी वालों के यहां भी जांच की तैयारी कर रहा है।

अभी तक नहीं कराया है जीएसटी में पंजीयन
शहर के सीमा टॉकीज के पास एक कचौड़ी की दुकान है। पिछले 10-12 वर्षो से मुकेश यहां कचौड़ी बेचते हैं। पिछले दिनों कचौड़ी विक्रेता के विरुद्ध लखनऊ स्तर पर शिकायत की गई। इस पर वहां से भी जांच के आदेश दिए गए। शिकायत के बाद अलीगढ़ वाणिज्य कर विभाग की एसआइबी टीम ने मुकेश कचौड़ी वाले की तलाश की, जिसके बाद टीम ने दुकान की बिक्री का जायजा लिया, जांच के दौरान दुकानदार ने खुद हर महीने लाखों रुपये टर्न ओवर होने की बात स्वीकार की।

60 लाख सालाना टर्न ओवर
टीम के अनुसार प्राथमिक जांच में कचौड़ी की बिक्री और कच्ची खाद्य सामग्री की खरीद को लेकर कचौड़ी व्यापारी के 60 लाख सालाना टर्न ओवर होने का पर्दाफाश किया है। इसमें सबसे हैरान करने वाली बात यह है कि दुकानदार ने जीएसटी का पंजीयन भी नहीं कराया है हालांकि 40 लाख से ज्यादा सालाना टर्न ओवर होने पर जीएसटी का रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य है। जबकि कचौड़ी विक्रेता मुकेश ने 60 लाख सालाना टर्न ओवर से मना किया है। वह 22 से 25 लाख तक व्यवसाय मान रहे हैं। उनके यहां कचौड़ी के अतिरिक्त  मिठाई और दूध का भी कारोबार है।

50 लाख से ज्यादा की कचौड़ी की बिक्री
कई दशकों से अलीगढ़ की खस्ता-कचौड़ी काफी मशहूर हैं। दूसरे शहर से आने वाले लोग भी इसका स्वाद जरूर चखते हैं। सूत्रों की मानें तो यहां जिले भर में 600 से ज्यादा छोटी-बड़ी दुकानों पर हर रोज 50 लाख से अधिक कचौड़ी का कारोबार होता है।