शहीद ने पत्नी से कहा- मुझे गोली लगी है चिंता मत करना जल्द ही आऊंगा, अब तिरंगे में लिपटा घर पहुंचा शव

कश्मीर के अनंतनाग जिले में हुए आतंकी हमले में पांच जवान शहीद हुए थे। मध्यप्रदेश के देवास जिले के रहने वाले शहीद जवान संदीप यादव का उनके घर के पास ही खेत में शुक्रवार को अंतिम संस्कार किया गया। 11 साल के बेटे ने शहीद पिता को मुखाग्नि दिया। इस दौरान वहां पर  मौजूद हजारों लोगों की आंखे नम हो गईं। वहीं, शहीद ने आखिरी बार अपनी पत्नी से बात की थी। जानकारी के अनुसार शहीद संदीप यादव को जब गोली लगी थी तब शहीद ने अपनी पत्नी को फोन करके कहा था। मुझे गोली लग गई है चिंता मत करना जल्द बात होगी।

तिरंगे में लिपटा घर पर पहुंचा शव

आपको बता दें की शहीद की अपनी पत्नी से ये आखिरी बातचीत थी। उसके बाद ही शहीद संदीप यादव का शव तिरंगे में लिपटा हुआ पैतृक गांव पहुंचाया गया। शहीद के शहादत की खबर सुनते ही कुलाला गांव के किसी भी घर में चूल्हा तक नहीं जला। शहीद को सलाम करने के लिए सांसद महेंद्र सोलंकी, प्रभारी मंत्री जीतू पटवारी, मंत्री सज्जनसिंह वर्मा, कलेक्टर, एसपी और सीआरपीएफ के आला अधिकारी पहुंचे।

प्रशासनिक अधिकारियों ने दिया शहीद होने की खबर

गुरुवार को कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक कुलाला गांव पहुंचे और संदीप यादव के शहीद होने की जानकारी पिता कांतिलाल को दिया था। जिसके बाद वहां पर मौजूद परिजन दूसरे मकान में शिफ्ट हो गए। संदीप यादव के परिवार में उनकी मां सुमन बाई, बड़ा भाई सुभाष है। संदीप की शादी 11 साल पहले ज्योति से हुए थी। संदीप का एक 11 वर्ष का बेटा भी है। संदीप के शहीद होने की जानकारी मिलते ही परिवार और इलाके में मातम पसर गया था।

निर्माणाधीन मकान के पास ही किया गया अंतिम संस्कार

शहीद संदीप यादव का उनके गांव कुलाला में नया मकान बन रहा था। उनका अंतिम संस्कार उनके मकान के पास ही किया गया। आपको बता दें कि कश्मीर के अनंतनाग जिले में बुधवार को आतंकियों ने हमला किया थ। इस आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 5 जवान शहीद हो गए थे। आतंकियों ने यहां की एक भीड़भाड़ वाली सड़क पर केंद्रीय रिजर्व पुलिस फोर्स (CRPF) की एक गश्ती दल को निशाना बनाया था।