तकरीबन तीन दर्जन छात्रों के रोने का वीडियो वायरल, आध्यपक ने लेट आने पर कर दी पिटाई

जम्मू-कश्मीर में अपनी कक्षा में बिना किसी स्पष्ट वजह के एक साथ बेतहाशा रो रहे तीन दर्जन से ज्यादा छात्रों के स्तब्ध कर देने वाले वीडियो ने राज्य शिक्षा प्राधिकारियों को पसोपेश में डाल दिया है जिसके बाद उन्होंने बच्चों को मनोवैज्ञानिक परामर्श मुहैया कराया है। इन छात्रों में ज्यदातर लड़कियां हैं।
कठुआ के एक स्कूल में 13 और 14 जून को हुई घटना से संबंधित वीडियो के सामने के तुरंत बाद प्राधिकारी हरकत में आ गए। वीडियो में नजर आ रहा है कि कठुआ के एक सरकारी स्कूल के  तकरीबन तीन दर्जन छात्र बेतहाशा रो रहे हैं और उनके अध्यापक उन्हें चुप कराने की प्रयास कर रहे हैं। 
कठुआ प्रमुख शिक्षा अधिकारी प्रेम नाथ ने एक न्यूज एजैंसी से कहा, ‘‘13 जून को स्थिति उतनी खराब नहीं थी किन्तु अगले दिन सुबह की सभा खत्म होने के बाद बच्चे जब अपनी कक्षाओं में जा रहे थे, तब फिर उनका ऐसा व्यवहार देखा गया।'' अधिकारी ने बताया कि उन्होंने निकटवर्ती स्कूलों से टीमें तत्काल तैनात कीं और संबंधित एसडीएम एवं तहसीलदार के साथ चिकित्सकीय दल एवं एम्बुलेंस स्कूल पहुंचे। 
चिकित्सकीय दल ने बच्चों की जांच की और पाया कि उन्हें स्वास्थ्य संबंधी कोई दिक्कत नहीं थी। उन्होंने कहा, ‘‘हमने बच्चों के पिता से भी संपर्क किया और हमें बताया गया कि उनमें से कुछ छात्रों ने अपने घरों में भी ऐसा ही बर्ताव किया है।'' प्रेम नाथ ने कहा कि स्कूल में इसके बाद कुछ भी गलत नहीं हुआ और बच्चे सामान्य रूप से कक्षाओं में आ रहे हैं। 
उन्होंने बताया कि बच्चों की भलाई के लिए बृहस्पतिवार सुबह स्कूल में दो सदस्यीय ‘मार्गदर्शन एवं परामर्श' टीम तैनात की गई। इस बीच, डोडा में एक स्कूल के अध्यापक मोहम्मद यसीन चौधरी को निलंबित कर दिया गया। दरअसल सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें अध्यापक छात्रों को कथित रूप से लेट से आने पर निर्ममता से पीटता दिख रहा है।