हाथ जोड़कर सोनू की बहन कही...बदला नहीं, मुझे भाई चाहिए

रोजा के जमुही गांव में सोमवार सुबह हुए डबल मर्डर से पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया। पलभर में जमुही गांव छावनी में तब्दील हो गया। मृतक सोनू और मायाप्रकाश का घर चंद कदमों की दूरी पर था, किन्तु घटना गांव के बाहर हाइवे पर स्थित रोजा साइडिंग के पास हुई। मृतक सोनू की लाश देख उसकी बहन हाथ जोड़कर बोली: मेरे भाई की किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी। मेरा भाई बेकसूर था। भाई दूसरों की विवाद में मारा गया। मुझे बदला नहीं चाहिए। मुझे मेरा भाई चाहिए। वरना हम सबकों गोली मार दो। भाई बीए में दाखिला कराने की बात कह रहा था। कॉलेज में बात भी की थी।
बहन ने सोनू के लिए बनाई थी तुरई की सब्जी मृतक सोनू चार भाइयों में छोटा था। बड़ा भाई पढ़ाई कर रहा है। दो की शादी हो चुकी है। मृतक की बहनें बोलीं भाई मजदूरी करता था। सुबह भाई के लिए तुरई की सब्जी बनाई थी। रोटी बना रहे थे। तभी सूचना आई कि भाई की हत्या कर दी गई। वहीं, मृतक की बहन वंदना, अर्चना और सुभि का रो-रोकर हाल बेहाल हो गया। परिवार के लोगों ने सभी को संभाला।

सोनू की मां बोली : बेटा था बेकसूर

बेटे सोनू की हत्या की जानकारी होने के बाद उसकी मां रामदेवी गली में बैठी रो रही थी। कह रही थी कि बेटा बेकसूर था। उसकी कोई गलती नहीं थी। कोई मेरे बेटे को वापस ले आओ। बेटा छोटा था, किन्तु परिवार की रीढ़ था। वहीं, रोते-रोते कई बार रामदेवी की हालत बिगड़ी। परिजन के लोगों ने उनको संभाला।

दो घरों पर महिला कांस्टेबल तैनात

मृतकों का घर पास-पास होने से गांव में तनाव की स्थिति बन गई। पुलिस ने सुरक्षा की दृष्टि से दोनों के घरों के बाहर महिला कांस्टबलों की ड्यूटी लगा दी। ताकि वे महिलाओं पर नजर रखें। क्योंकि हत्या के बाद दोनों पक्ष की महिलाओं के बीच भी झगड़ा हो गया था।