माँ बाप पर टूटा दुखों का पहाड़, तीनों बच्चे जन्मजात हुए अंधे, जानिए क्या था कारण..!

कहते हैं कि व्यक्ति सब दुख झेल सकता है,लेकिन संतान का दुख नहीं झेल सकता हैं।ऐसी एक बानगी आगरा के ट्रांस यमुना इलाके में देखने को मिली हैं।जहां एक दंपत्ति पर दुखों का पहाड़ उस समय टूट पड़ा जब उनके एक के बाद एक तीनों बच्चे जन्मजात नेत्रहीन हुए।

जानिए क्या है मामला?
बता दें कि ट्रांस यमुना इलाके में रहने वाले एहसान पेशे से ऑटो चालक हैं।एहसान और अनीसा की विवाह 7 वर्ष पहले हुई थीं।एक खूबसूरत ज़िंदगी का सपना लिए हुए इन्होंने एक साथ आगे बढ़ने का फैसला किया और जब पहला बच्चा इस दुनिया में आया, तो उन्हें झटका लगा। क्योंकि वो नेत्रहीन था और ऐसे ही अब इस व्यक्ति के 3 बच्चे हैं,लेकिन तीनों ही नरतीं हैं। पहला 6वर्ष का अनस, दूसरा 2 वर्ष का अनीस और तीसरी बच्ची अलीशा है 3 महीने की।इस व्यक्ति के घर गुरबत की निशानियां चारों तरफ दिखायी दी।साथ ही इन बच्चों की लाचारी भी,जो केवल चीज़ें महसूस कर सकते हैं,लेकिन देख नहीं सकते।

तीनों बच्चे जन्मजात नेत्रहीन
मीडिया से बात करते ही पत्नी अनीसा के आंसुओं का सैलाब बह निकला।उसका यही कहना था कि ऐसी ज़िंदगी से मृत्यु अच्छी हैं। मैं सब जगह अपने बच्चों को दिखा चुकी हूं,लेकिन सभी जगह डॉक्टरों ने मना कर दिया।बस अब ऐसे ही तीनों बच्चों के साथ ज़िंदगी काटनी है। हमारे दुख को तो कोई कम नहीं कर सकता,लेकिन हम चाहते हैं कि सरकार हमें छत मुहैय्या करा दे,तो थोड़ी ज़िंदगी में चेन आ जाये। क्योंकि हम गरीब हैं हमारी सुनने वाला कोई नहीं हैं।

डॉक्टरों ने भी खड़े किए हाथ
वहीं बच्चों के पिता एहसान कहते हैं कि उपचार के लिए कई जगह गए,लेकिन सब जगह डॉक्टरों ने हाथ खड़े कर दिए हैं।मैं चेन्नई तक बच्चों के उपचार के लिए गया हूं, लेकिन डॉक्टरों ने कहा कि ये जन्मजात है,कुछ नहीं हो सकता। एहसान काफी गरीब है जो मुश्किल से ही अपना घर चला पाता है।