देवर ले रहा था फेरे, इधर भाभी ने फांसी लगाकर दी जान

सरौरा गांव के युवक की बारात गुरुवार रात पड़ोसी गांव गई थी। दूल्हा-दुल्हन संग फेरे ले रहा था। इधर, उसकी भाभी ने फंदा लगाकर जान दे दी। खबर होने पर मृतका के देवर को उसकी ससुराल वालों ने रोक लिया। मृतका के मायके वालों ने अनहोनी की आशंका जताई। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज की और लाश को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।
क्षेत्र के सरौरा गांव निवासी रामू की पत्नी जमुना देवी (28)के देवर सुभाष की गुरुवार को विवाह थी। उसकी बारात पड़ोसी गांव कासिमगंज गई थी। बारात में जमुना देवी का पति रामू, जेठ रामपाल, ससुर रामसिंह भी गए थे। इसी का लाभ उठाकर जमुना देवी ने फंदा लगाकर अपनी जान दे दी। जमुना देवी का मायका जिला हरदोई थाना शाहाबाद क्षेत्र के गांव सिकंदरपुर नरकतरा में है। इससे पहले तकरीबन पांच साल तक वह अपने मायके में रही थी। उसकी एक पांच साल की बेटी है।

परिजनों ने जताई अनहोनी की आशंका
वहीं, मृतका जमुना देवी के पिता रामबख्श ने कहा कि ससुराल वाले बेटी को आए दिन प्रताड़ित करते थे। तंग होकर बेटी ने फंदा लगाया है। पुलिस ने रामबख्श की तहरीर के आधार पर उसके दामाद रामू, दामाद के भाई सुभाष, जेठ रामपाल, समधी रामसिंह के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज की। थाना प्रभारी सुनील कुमार शर्मा ने कहा कि रिपोर्ट दर्ज कर लाश  को पीएम के लिए भेज दिया है। मामले की जांच कर कार्रवाई की जाएगी। सूत्रों ने बताया कि इस मामले में पुलिस अन्य पहलुओं पर भी छानबीन  कर रही है।