3 पेज का सुसाइड नोट लिख लापता हुआ कांस्टेबल, लिखा-'मेरे शव पर पत्नी की परछाई तक भी मत गिरने देना'...

मध्य प्रदेश के रायसेन जिले के सांची पुलिस थाने में पदस्थ आरक्षक शैलेंद्र शाक्य के नाम से एक सुसाइड नोट सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है। बता दे सुसाइड नोट सामने आने के बाद से बैरसिया निवासी कांस्टेल शैलेन्द्र शाक्य लापता है। वह कहां गया। किसके साथ गया। कुछ भी नहीं पता। उसका मोबाइल भी गुम है। पुलिस के अनुसार शाम को उसकी आखिरी लोकेशन बेगमगंज में मिली थी। बता दे उसके बाद से उसका फोन बंद आ रहा है। सोशल मीडिया में वायरल हो रहे तीन पेज के सुसाइड नोट की सत्यता की वन इंडिया पुष्टि नहीं करता है।

तीन पेज का है सुसाइड नोट
आपको बता दे वायरल सुसाइड नोट में कांस्टेबल शाक्य ने अपनी पत्नी रचना की बेवफाई व प्रताड़ना का विस्तार से जिक्र किया है। साथ ही उसने साथ पुलिसकर्मी जिग्नेश और अपनी पत्नी के संबंधों के बारे में भी लिखा है। रचना व जिग्नेश पर उसने प्रताड़ना के आरोप लगाए हैं। बता दे जिग्नेश राठौर भी मध्य प्रदेश पुलिस का कांस्टेबल और वर्तमान में नजीराबाद थाने में पदस्थ है। बता दे सोशल मीडिया पर आरक्षक की पत्नी और प्रेमी का एक साथ फोटो भी वायरल हो रहे हैं।

पत्नी को प्रेमी के साथ रंग हाथ पकड़ा
आपको बता दे लापता आरक्षक शैलेंद्र शाक्य के सुसाइड नोट में आरोप है कि शादी के बाद से ही प्रेमी और उसकी पत्नी दोनों मिलकर उसे प्रताड़ित कर रहे थे। उसने यह भी बताया कि आरक्षक ने पत्नी और प्रेमी को रंगे हाथ आपत्तिजनक हालत में पकड़ लिया था। उसके बाद सामाजिक पंचायत की मर्जी से हो गया था। दोनों के बीच तलाक हो गया था, जबकि तलाक के बाद से दोनों एक लाख रुपए की मांग कर प्रताड़ित कर रहे थे।

पुलिस अफसरों को की थी शिकायत
लापता आरक्षक ने डीजीपी से लेकर आईजी जोन भोपाल के यहां शिकायत भी की थी, जिस पर कोई ठोस कार्रवाई नहीं हुई। उधर, शैलेन्द्र शाक्य के लापता होने और सुसाइड नोट वायरल होने पर उसके परिजन सांची पुलिस थाना पहुंचे तो पता चला कि उसने सुबह तक ड्यूटी दी थी। इसके बाद से लापता है। पुलिस ने गुमशुदगी दर्ज की है।

गश्त में लगी थी ड्यूटी

एसपी अबदेश प्रताप सिंह ने यह बताया कि आरक्षक शैलेन्द्र शाक्य की गश्त में ड्यूटी लगाई हुई थी। सुबह पांच बजे तक ड्यूटी किया था। उसके बाद वह सांची में ही अपनी गाड़ी छोड़कर कहीं चला गया। जबकि वह सुबह दस बजे व्हाट्सप्प पर एक मैसेज वायरल हुआ, जिसमें पारिवारिक परेशानियों का जिक्र किया है। फिलहाल वह किसी परिचित व रिश्तेदार के सम्पर्क में नहीं है।

एक पेज पर कुछ यूं बयां की पीड़ा
जग्नेश और रचना द्वारा मुझे बहुत ही मानसिक तौर प्रताड़ित किया जा रहा है। मैं अपनी नौकरी भी अच्छे से नहीं कर पा रहा हूं। जबकि हर समय तनाव में रहता हूं। मैं सांची थाना में नौकरी करता हूं और बैरसिया थाने में जगनेश तथा रचना षड़यंत्र रचकर मेरी रिपोर्ट थाने में दिनांक 11 अगस्त 2019 को एनसीआर करा दी, जो झूठी है तथा रचना द्वारा लगाए जा रहे सारे आरोप झूठे हैं। बता दे रचना ने मुझ से षड़यंत्रपूर्ण तरीके से शादी की। मुझे शादी सुख से हमेशा वंचित रखा तथा शादी के पहले दिन से मुझे प्रताड़ित किया। बार-बार पैसों की मांग रचना द्वारा की जाती है। जबकि शादी से मेरी भतीजी मिस्टी को रचना द्वारा पानी टब में जान से मारने की कोशिश की गई थी। यह सभी बातें मेरे वालों को भी मालूम हैं।

मेरे मरने के बाद मेरा समस्त सामान मेरे घर वालों को भिजवा देना। कुछ सामान मेरा सांची रूम पर है तथा कुछ सामान मेरा रायसेन पुलिस लाइन वाले रूम पर है। बता दे मेरी गाड़ी प्लसर जो सांची रूम पर मिल जाएगी। मेरे परिवार को दिया जाए। मेरे मरने के बाद मेरी लाश से मेरी पत्नी रचना को कोसों दूर रखना तथा मेरी पर उसकी परछाई तक भी मत पड़ने देना। मेरी आखिरी इच्छा पूरी करना। कभी सोचा नहीं था कि ये आत्महत्या जैसा कभी काम करूंगा। लेकिन मैं बहुत ही मजबूर हूं। मैं बहुत प्रताड़ित हो चुका हूं। मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा है मैं क्या करूं। सॉरी कक्का बाई मैं आपको बुढ़ापे में एक अच्छी बहू नहीं ला सका। मुझे माफ कर देना। आखिरी बार चरण स्पर्श। भैया, भाभी, दीदी सभी को अंतिम बार चरण स्पर्श। दिनांक 12 अगस्त 2019