चिता से बेटी का अधजला हाथ लेकर भाग गया पिता, थाने में पहुंचकर बताई पूरी कहानी...

बिहार के पश्चिम चंपारण जिले के बेतिया में मंगलवार की रात एक विवाहिता की उसके ससुराल वालों ने कथित तौर पर हत्या कर दी और शवदाह करने लगे लेकिन इस दौरान महिला का पिता वहां पहुंचा और अपनी बेटी का अधजला हाथ लेकर शिकायत दर्ज कराने थाने पहुंच गया।

पति-ससुर ने मिलकर की बहू की हत्या
लौरिया थानाध्यक्ष रणधीर कुमार भट्ट ने बुधवार को बताया कि महिला का नाम संगीता देवी था और वह भुटकुन राम की पत्नी थी। उन्होंने बताया कि इस मामले में संगीता के पिता रामनाथ राम ने अपने दामाद सहित उसके परिवार के पांच सदस्यों के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। भट्ट ने बताया कि पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। आरोपी फरार हो गए हैं और उनकी तलाश जारी है।

10 साल पहले की थी बेटी की शादी

रामनाथ राम ने पुलिस को दी शिकायत में कहा कि उन्होंने अपनी बेटी संगीता की शादी 10 साल पहले भुटकुन राम के साथ धूमधाम से की थी। उनकी बेटी को आठ और सात साल के दो बेटे भी हैं। उन्होंने आरोप लगाया है उनकी बेटी के ससुराल वाले दहेज की मांग करते हुए उसे प्रताड़ित कर रहे थे।

पिता बोले-इन लोगों ने मारा मेरी बेटी को
रामनाथ ने आरोप लगाया कि मंगलवार की रात संगीता के पति, देवर साहेब, संजीत, दीपू और ससुर ने मिलकर उसकी हत्या कर दी। जैसे ही उनको बेटी की हत्या की जानकारी लगी वह श्मशान पहुंचे और शव को जलाये जाने का विरोध करने पर उनकी बेटी के ससुराल वालों ने उनके साथ मारपीट की।

अधजला हाथ लेकर भागा पिता
रामनाथ ने अपनी शिकायत में कहा कि वह नहीं चाहते थे कि अंतिम संस्कार किया जाए और छीना-झपटी में चिता से उन्होंने बेटी का अधजला हाथ निकाल लिया और उसे लेकर थाने पहुंचे ताकि इस अवशेष से उनकी बेटी की मौत का कारण पता चल सके।