कॉल डिटेल खोलेगी दिव्यांशी का पूरा राज, जानिए क्या है ये पूरा मामला

मेरठ की दिव्यांशी दत्त उर्फ यतु की हत्या कर शव को गठरी में बांधकर युसूफपुर गांव के जंगल में फेंकने की घटना का राजफाश करना भोपा पुलिस के लिए चुनौती बन गया है। हत्याकांड के राजफाश में दिव्यांशी के मोबाइल नंबरों की कॉल डिटेल अहम मानी जा रही है। जिसके तहत पुलिस ने आधा दर्जन मोबाइल नंबरों पर हुई बातचीत की कुंडली खंगाल रही है।
भोपा थाना के गांव यूसुफपुर के जंगल में बीती पांच सितंबर की सुबह किसान बबलू के चरी के खेत में कंबल की गठरी में मिले महिला के शव की पहचान गुरुवार को मेरठ के थाना ब्रह्मपुरी के मोहल्ला भगवतपुरा निवासी देवदत्त की बेटी दिव्यांशी दत्त उर्फ यतु के रूप में हुई थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में महिला की मौत दम घुटने से आई है। इस हत्याकांड का राजफाश करना पुलिस के लिए चुनौती बन गया है। हत्याकांड के राजफाश में दिव्यांशी के मोबाइल नंबरों की कॉल डिटेल अहम मानी जा रही है। 
बीते चार सितंबर को मेरठ में उसकी बहन नेहा की दिव्यांशी से आखिरी बार फोन पर बात हुई थी, इसके बाद उसके मोबाइल पर लगातार दस सितंबर तक घंटी जाती रही। पुलिस ने आधा दर्जन मोबाइल नंबरों पर बात करने वालों की कुंडली खंगालनी शुरू कर दी है। मेरठ और बागपत के फाईनेंसर से उसकी नजदीकी होने के मामले को भी पुलिस गंभीरता से ले रही है। 
पहले पति गुजरात अहमदाबाद के आदर्श नगर निवासी राकेश कुमार और दूसरे पति दिल्ली के मोहल्ला उस्मानपुर निवासी ग्रीस उर्फ पम्मी से भी संपर्क किया जा रहा है। सूत्रों की मानें तो पुलिस दिव्यांशी के बैंक एकाउंट के बारे में भी जानकारी जुटाई जा रही है। प्रभारी निरीक्षक एमएस गिल ने बताया कि पुलिस घटना के राजफाश करने में जुटी है। मोबाइल की कॉल डिटेल से अहम जानकारी सामने आने की उम्मीद है।