टीवी सीरियल देखकर पत्नी के साथ भी किया वैसा ही काम, लेकिन आखिर में एक गलती कर दी

ज़माना है क्राइम सीरियल्स और इंटरनेट का. एंकर लाख कहे कि वो दुनिया को जुर्म से सतर्क रखना चाहता है लेकिन सीखने वाला उससे क्या सीख रहा है ये कैसे समझ पाएगा कोई. दिल्ली के प्रेमनगर में हुए हत्याकांड में भी इन क्राइम सीरियल्स का बड़ा रोल रहा. बीते 21 सितंबर की रात को दिल्ली के प्रेमनगर इलाके में रहने वाली एक महिला को उसके दामाद का फोन आया. दामाद का नाम आशू. उधर से फोन पर आशू ने बताया कि ‘मैंने तुम्हारी बेटी का मर्डर कर दिया है. रोज़-रोज़ के इस झंझट से अब सबको मुक्ति मिल गई.’ मां को मालूम था कि बेटी दामाद में झगड़ा होता रहता है. लेकिन बाद में सब ठीक भी हो जाता था. इसलिए उन्हें लगा कि दामाद आशू फोन पर मज़ाक कर रहा है. 
आशू के फोन की ख़बर परिवार में मां ने किसी और को नहीं दी. बात आई-गई हो गई. लेकिन बात सिर्फ़ इतनी नहीं थी. आशू ने अगले दिन रविवार 22 सितंबर को प्रेमनगर पुलिस थाने में जाकर पत्नी के मर्डर की बात पुलिसवालों को बताई. पुलिसवालों ने भी समझा कि कोई नशेड़ी होगा. लेकिन आशू ने सच में अपनी पत्नी का मर्डर कर दिया था. हरदोई का एक परिवार दिल्ली के प्रेम नगर इलाके में रहता है. बेटे आशू की शादी कुछ साल पहले ही हुई थी. 34 साल का आशू कम्प्युटर की दुकान पर हार्डवेयर का काम करता था. पत्नी से झगड़ा चलता रहता था. आशू को अपनी पत्नी पर शक़ था. पुलिस की पूछताछ में आशू ने बताया कि पत्नी दिन-रात फोन पर लगी रहती थी. फोन लॉक रखती थी. किसी से लगातार चैट करती थी. फोन दिखाने को कहने पर फोन नहीं दिखाती थी.
आशू ने शनिवार 21 सितंबर को पत्नी को पुराने घर प्रेमनगर बुलाया. पत्थर से कुचलकर उसकी ह्त्या कर दी. और फिर लाश के कई टुकड़े कर के घर के सेप्टिक टैंक में डाल दिए. आशू कई दिनों से टीवी पर क्राइम सीरियल देख रहा था. इंटरनेट से भी वो लगातार ये सीखने की कोशिश कर रहा था कि ‘लाश कैसे ठिकाने लगाएं’. अब पुलिस के सूत्र बता रहे हैं कि जब आशू ने मर्डर कर दिया और लाश को काटने लगा तो उसे दिक्कत हुई. यहीं से उसका प्लान गड़बड़ हो गया. उसने बाक़ी सारी तैयारियां तो की थी. लेकिन उसे ये नहीं पता था कि लाश के टुकड़े कैसे करें. आशू ने बाज़ार से एक धारदार चापड़ भी ख़रीदा था. आशू ने पुलिस को बताया कि लाश के टुकड़े करते वक़्त बहुत मुश्किल हुई. फ़िलहाल आशू पुलिस की हिरासत में है.