जेब खर्च के लिए घरों में करता था ये काम, लेकिन उसके एक गलती से ये हो गया

दमोह जिले के जेब खर्च के लिए लोगों के घरों को निशाना बनाकर चोरी करने वाले एक आरोपित को बुधवार को न्यायालय ने दोषी करार दिया। उस पर एक शिक्षक के घर से मोबाइल व रुपए चोरी के अलावा अन्य घरों में चोरी करने का आरोप था। न्यायालय ने पुलिस विवेचना और बयानों के आधार पर आरोपित को दोषी माना और उसे दो साल की सजा व 5 सौ रुपए का जुर्माना लगाया है। 
ज्ञात हो कि इस अपराधी को चोरी करने के दौरान शिक्षक के तोते ने देख लिया था और उसने जोर-जोर से चिल्लाकर शिक्षक को उठा दिया था, इसके बाद चोर घर से भाग निकला था। अभियोजन की ओर से मामले की पैरवी करने वाले एडीपीओ विपिन रावत ने बताया कि 20 जुलाई 2017 को जबलपुरनाका क्षेत्र निवासी शिक्षक अभय भट्ट ने जबलपुरनाका चौकी में रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि उनके घर में एक युवक ने घुसकर उनका मोबाइल व रुपए चोरी कर लिए हैं। पुलिस ने अज्ञात आरोपित के खिलाफ मामला दर्ज किया था। 
विवेचना के दौरान किशुन तलैया निवासी पवन पिता मदन ठाकुर नाम के युवक को संदेह के आधार पर पकड़ा और जब उससे पूछताछ की तो उसने चोरी कबूल कर ली। शिक्षक ने बताया था कि रात में परिवार के सभी सदस्य सो रहे थे। इसी बीच मौके का फायदा उठाकर चोर उनके घर में घुस गया। जिस कमरे में वह सो रहे थे, उसे बाहर से बंद कर दिया और किचन में जाकर उसने नाय-नाश्ता किया। इसके बाद उसने पेंट की जेब में रखे मोबाइल और रुपए चोरी कर लिए।

जोर से चिल्लाया तोता तो संदेह हुआ
भट्ट ने उस समय पुलिस को दिए बयान में कहा था कि रात में जब उन्हें बरामदे में पिंजरे में मौजूद तोते के जोर-जोर से चिल्लाने की आवाज सुनाई दी तो उन्हें संदेह हआ कि शायद घर में कुछ गड़बड़ है, क्योंकि रात के समय कभी उनका तोता इस तरह से आवाज नहीं करता था। उन्होंने देखने के लिए जब अपने कमरे का दरवाजा खोला तो वो बाहर से बंद था। उनका शक यकीन में बदल गया और इसके बाद वह दूसरे रास्ते से बरामदे में पहुंचे। यहां मौजूद चोर को उनके आने का आभास हो गया और चोर आगे के दरवाजे से भाग निकला।