गाँव के लड़के उसको कहते थे 'कैरेक्टर लेस', भाई को पता चला तो बहन को बुलाया और कर दिया ये काम और फिर दोस्त को बताया...

इंदौर शहर में हुई युवती की मौत का मामला दरअसल ऑनर किलिंग का निकला। प्रेम संबंधों और कैरेक्टर को लेकर शक पर विवाद के बाद भाई ने ही गला घोंटकर बहन की हत्या कर दी। उसके बाद आरोपी ने अपने दोस्त को बताया था कि उसकी बहन घर से झूठ बोलकर किसी से मिलने जाती है। मोहल्ले के लड़के इसे लेकर तरह-तरह की बातें करते हैं। जब बहन ने उसकी बात नहीं मानी तो घटना को अंजाम दे दिया। पुलिस काे गुमराह करने की कोशिश...
मालीकुआं निवासी दामोदर राठौड़ 2 जनवरी की शाम बेटी गायत्री उर्फ नानू को लेकर जिला अस्पताल पहुंचे जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था। तब भाई विजय ने जहर खाकर आत्महत्या की शंका जताई थी। पुलिस ने 3 जनवरी को पैनल से पोस्टमार्टम करवाकर युवती का शव परिजन को सौंप दिया। पुलिस ने मौके का मुआयना किया, लेकिन घर में गायत्री द्वारा आत्महत्या करने जैसे साक्ष्य नहीं मिले। उसके मुंह से ज्यादा झाग भी नहीं निकला था। गले में खरोंच के निशान थे जिससे पुलिस को हत्या की शंका हुई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी गायत्री की मौत गला दबाने से दम घुटने के कारण आया। 
 
इसलिए कर दी हत्या
मोहल्लेवासियों और विजय के दोस्तों सहित 20 से अधिक लोगों से पूछताछ में सभी ने बताया कि भाई-बहन में अक्सर झगड़े होते थे। विजय कई बार गायत्री को पीट भी देता था। घटना वाले दिन गायत्री फुफेरे भाई ईश्वर के यहां जाने का कहकर घर से गई थी। दोपहर 2 बजे विजय ने ईश्वर के घर जाकर पूछा, लेकिन गायत्री वहां नहीं मिली। करीब 2.30 बजे वह घर लौटी तो विजय से उसका विवाद हो गया। गुस्से में विजय ने गायत्री का हाथ से गला घोंट दिया। पुलिस ने जब यह राज खोला तो लड़की के पिता ने रोते हुए बेटे से कहा ‘तू क्यों बाप बन रहा था? मेरी बेटी थी, मैं उसे समझा लेता।’ पुलिस ने आरोपी भाई को गिरफ्तार कर लिया है।
 
दोस्त को बताया था- मैंने नानू को मार दिया 
घटना के बाद विजय ने उसके दोस्त को बताया था कि नानू घर से झूठ बोलकर किसी से मिलने जाती है। मोहल्ले के लड़के तरह-तरह की बातें करते हैं। नानू को समझाया, वह नहीं मानी तो मार दिया। पूछताछ में विजय के दोस्त ने ही पुलिस को यह जानकारी दी। पुलिस ने पिता के सामने विजय से पूछताछ की तो उसने भी अपराध कबूल लिया।