चरित्र पर था संदेह, इसलिए मोबाइल चार्जर के तार से ही पत्नी के साथ किया ये काम

अजमेर शहर के सदर थाना पुलिस ने गत 10 सितम्बर को निकटवर्ती ग्राम ककलाना में संदिग्धावस्था में हुई महिला की मृत्यु का रविवार को पर्दाफाश करते हुए आरोपी पति को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के अनुसार गत 10 सितम्बर को ग्राम ककलाना निवासी रशीदा की फांसी लगाने से हुई मृत्यु का रविवार को पर्दाफाश करते हुए उसके पति मोहम्मद रफीक को गिरफ्तार कर लिया। रफीक ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि रशीदा द्वारा दो साल पहले उसके पड़ोसी हुसैन से बातचीत करने की बात जब उसे पता चली तो उसे रशीदा के चरित्र पर संदेह हुआ। 
रफीक ने रशीदा के साथ दो वर्ष पूर्व मारपीट भी की थी। जब यह बात गांव में फैल गई तो रफीक रशीदा को सबक सिखाने के लिए अपने घरवालों से अलग गांव में ही किराए का मकान लेकर रशीदा के साथ रहने लगा। गत 10 सितम्बर को सुबह 6 माह की गर्भवती रशीदा खिचड़ी बना रही थी। तब रफीक ने मोबाइल के चार्जर के तार से गला घोंटकर रशीदा की हत्या कर दी और साक्ष्य छिपाने व आत्महत्या प्रदर्शित करने की नीयत से लाश को उसकी चुन्नी से फंदा लगाकर लगभग ढाई फुट ऊंची खिडक़ी से लटका दिया। अपने बच्चों को बाहर भेजकर रफीद खुद अजमेर चला गया। पुलिस आरोपी को सोमवार को अदालत के समक्ष पेश कर उसे रिमाण्ड पर लेगी। गौरतलब है कि ग्राम बड़ू (नागौर) निवासी रशीद ने अपनी बहन रशीदा की हत्या की शंका जाहिर करते हुए उसके पति रफीक, जेठ कमरूद्दीन, जेठानी तस्लीमा बानो, अकबर व खलील खिलाफ नामजद रिपोर्ट दी थी।

ऐसे हुआ मामले का पर्दाफाश
सदर थाना पुलिस ने मृतका रशीदा के पीहर पक्ष को तलब कर घर में हुए लड़ाई-झगड़े व अनबन की गहनता से जांच की। पूछताछ की तो सामने आया कि मृतका रशीदा एक समूह में किस्तें भरती थी। यदा-कदा किस्त के रुपए नहीं होने पर पड़ोसी को रुपए के लिए फोन करती थी। इसके बाद पुलिस ने जब गांव में उसके दामपत्य जीवन के बारे में जानकारी ली तो मृतका के किसी अन्य व्यक्ति से बातचीत होने के बारे में जानकारी मिली। 
पुलिस को घरेलू बातों को लेकर रफीक और रशीदा के बीच आपसी मनमुटाव की भी जानकारी मिली। पुलिस ने यह भी बताया कि आरोपी रफीक शुरुआती पूछताछ में पुलिस को गुमराह करता रहा और कहता रहा कि रशीदा ने फांसी लगाकर आत्महत्या की और घटना के दिन वह मोहर्रम का त्योहार होते हुए भी अपने काम के लिए घर से निकल गया था। घरवालों ने भी अपनी घर की दूसरी झगड़ालू बहू तस्लीमा का हाथ होने की कहकर पुलिस को गुमराह किया।