इस मौलाना ने बनाई पानी से चलने वाली कार, जिसे वो अपने मोबाइल से भी चला सकते है, जानें कैसे

क्या आप जानते है की हमारे भारत में कितनी मोटरसाइकिल और गाड़ियां है? पुरे भारत में इतनी मोटरसाइकिल और गाड़ियां है जिनकी हम कल्पना भी नहीं कर सकते| आंकड़े बताते है की दुनिया में दोपहिया वाहनों की सबसे ज़्यादा संख्या भारत में है और गाड़ियों की बात करे तो भारत में इतनी गाड़ियाँ है जिसकी कोई गिनती नहीं है| 
ज़ाहिर सी बात है अगर इतनी साडी मोटरसाइकिल और गाड़ियां होंगी तो उतना ही ईंधन की खपत होगी और आजकल हम देख ही सकते है की पेट्रोल और डीजल के दाम असमान छू रहे है और पेट्रोल और डीजल वाली गाड़ियों से निकलने वाले धुँए से वायु प्रदूषण भी होता है| आज हम आपको एक ऐसी गाड़ी के बारे में बताने जा रहे है जो पानी से चलती है| जी है चौकियें मत यह अद्भुत खोज मध्य प्रदेश के मोहम्मद रईस मकरानी ने की है| रईस ने सिर्फ 12वी कक्षा तक पढ़ाई की है और पेशे से एक मौलाना है. उन्हें यह गाड़ी बनाने में 5 साल लग गए| आइये जानते है रईस ने यह अनोखी खोज कब और कैसे की-
मध्य प्रदेश के सागर के रईस मकरानी ने एक कार डिजाइन की जो पानी और कैल्शियम कार्बाइड पर चलती है| कैल्शियम कार्बाइड एक रासायनिक यौगिक है जो मुख्य रूप से एसिटिलीन और कैल्शियम साइनामाइड के उत्पादन में औद्योगिक रूप से उपयोग किया जाता है। जब कैल्शियम कार्बाइड की प्रतिक्रिया पानी के साथ होती है तो यह एसिटिलीन गैस बनती है जिससे यह नई डिज़ाइन वाली कार चलती है| 
एसिटिलीन गैस गाड़ियों में डलने वाली LPG और CNG की स्थान ले सकती है पर यह अत्यंत ज्वलनशील गैस है लेकिन बिना किसी संचालन या मैकेनिकल सपोर्ट के रईस जी ने इस ताकतवर गैस को काबू करकर इस गैस को ईंधन की तरह काम में लिया| 2012 में उन्होंने अपनी मारुती 800 को बदल दिया ऐसी गाड़ी में जो की पानी, कैल्शियम कार्बाइड से चलती है| इस गाड़ी में 796cc का इंजन है| इस गाड़ी की टॉप स्पीड 50 -60 km/hr है| इसमें पेट्रोल के मुकाबले आधा खर्चा आता है| 25kg पानी और 4 kg कैल्शियम कार्बाइड में यह गाड़ी 60 km तक चल सकती है| 
रईस ने इस गाड़ी को बनाने में 7 लाख रूपए लगाए| इस खोज के लिए रईस जी को दुबई, चीन की कंपनियों ने भी संपर्क करा| मेक इन इंडिया धारणा से रईस जी इतने ज़्यादा प्रेरित हो गए की उन्होंने सारे ऑफर को मना कर दिया| रईस जी का खुराफाती दिमाग यही नहीं रुका वह अपनी गाड़ी मोबाइल से भी संचालित कर लेते है| उन्होंने गाड़ी में एक ऐसा मोटर लगया है जिसे वह मोबाइल नेटवर्क की आवृत्ति(frequency) से चलाते है|