पति ने पूछा-सच बोलो किससे मिलती है बच्चे की शक्ल, तभी से था पत्नी का मूड खराब

गौतम बुद्धनगर के गोपालगढ़ गांव में एक 8 महीने के बच्चे की मौत में सनसनीखेज खुलासा हुआ है। बच्चे का शव 11 दिन बाद घर के पास एक प्लॉट में पड़ा मिला था।  परिजनों ने उसके किडनैप की आशंका जताई थी। हालांकि जब पोस्टमार्टम रिपोर्ट सामने आई, तो षड्यंत्र कुछ और निकला। मां ने ही बच्चे की हत्या की थी। फिर डरके मारे बच्चे की लाश अनाज की टंकी में ठूंसकर रख दी थी। उसने अपने पति और ससुर को झूठी कहानी सुनाई थी कि बच्चा चारपाई से गिरकर मर गया था। 
बाद में पिटाई के डर से उसने बच्चे की लाश अनाज की टंकी में रख दी। पति और ससुर ने महिला की बात पर भरोसा किया और पुलिस से बचने खुद भी षड्यंत्र में शामिल हो गए। हालांकि अब पूरे मामले का खुलासा हो गया है। मां ने ही चुन्नी से बच्चे को गला दबाकर मार डाला था। वो अपने पति के तानों से परेशान थी। पति को लगता था कि बच्चे की शक्ल उससे नहीं मिलती है। लिहाजा वो किसी और का होगा। यही बात महिला को चुभने लगी थी।

बदबू के बाद लाश को बाहर फेंकी थी...
परिजनों ने बच्चे के किडनैप होने की FIR दर्ज कराई थी। मंगलवार को जब घर में बदबू दौड़ी, तब महिला ने घर पर बच्चे की मौत के बारे में बताया। हालांकि तब भी उसने यही कहा कि बच्चा चारपाई से गिरकर मर गया था। डरके मारे उसने लाश अनाज की टंकी में छुपा दी। महिला का बात पर भरोसा करके पति और ससुर भी उसके षड्यंत्र में शामिल हो गए। एसपी देहात रणविजय सिंह ने बताया कि इस मामले में मां हेमा, उसके पति रोहदास और ससुर दादा बाबू को अरेस्ट किया गया है।