कॉलेज छात्रा ने दी जान, नोट बुक में लिखा मिला-'मेरा किसी से कोई संबंध नहीं था और मुझको..'

राजस्थान के सीकर जिले के गांव किरडोली में एक कॉलेज छात्रा ने फांसी लगाकर जान दे दी। आत्महत्या के कारणों का पता नहीं चल पाया है। पुलिस को मौके से एक नोट बुक मिली, जिसमें लिखा था 'मेरा किसी के साथ संबंध नहीं था और मुझे माफ करना...'
पुलिस ने सुसाइड नोट के आधार पर मामले की जांच में जुट गई है। मामला सीकर जिले के गांव किरडोली का है। यहां पर शुक्रवार रात को 17 वर्षीय कॉलेज छात्रा ने अपने ननिहाल में पंखे से चुन्नी का फंदा लगाकर जान दे दी। मीडिया रिपोर्टर्स के अनुसार सीकर के गांव हर्ष की रंजीता बचपन से ही अपने ननिहाल गांव किरडोली में नानी के पास रहती थी। 10वीं पास करने के बाद दाे साल वह अपने गांव में माता-पिता के पास गांव हर्ष में रही और फिर 12वीं की परीक्षा देकर वापस अपनी नानी साेनी देवी के पास रहने लगी। उसने इस साल सीकर के एसके गर्ल्स कॉलेज में प्रवेश ले लिया था।
रंजीता के पिता महावीर प्रसाद ने बताया कि उसके बेटे विकास के पास किरडाेली के रहने वाले निवास का फाेन आया। उसने बताया कि रंजीता ने फांसी लगा ली है। वे माैके पर पहुंचे ताे नानी साेनी देवी ने बताया कि जब वह बाहर से आई ताे रंजीता का कमरा अंदर से बंद था, जिसकाे धक्का देकर खाेला। महावीर प्रसाद और उसके पड़ाैसी पंचायत समिति सदस्य विजय सिंह गुर्जर ने मामले की जांच की मांग रखी है।

डायरी में लिखती थी शायरी
पांच भाई-बहनाें में रंजीता तीसरे नंबर की थी। उसके सगे भाई विकास व चचेरे भाई राजकुमार ने बताया कि घटना से एक दिन पहले ही रंजीता ने घर फाेन कर परिजनाें से बात की थी और वह बहुत खुश नजर आ रही थी। फांसी लगने के बाद उसके पैर जमीन काे छू रहे थे। ऐसे में नानी के पास आए रिश्तेदार और नाेटबुक के माेबाइल नंबराें की निष्पक्ष जांच हाेनी चाहिए। सदर थाने के एसआई गिरधारीलाल ने बताया कि माैके पर पुरानी डायरी मिली थी। जिसके अंदर कई शायरी लिखी हुई थी।