बेटी ने ही अपने पिता को WhatsApp पर भेजी थी ऐसी तस्वीरें, अब खुला है पूरा राज

प्राइवेट कंपनी में काम करने वाली 23 साल की युवती 10 सितंबर को रहस्यमय परिस्थितियों में हो गई थी। शाम में उसके नंबर से पिता को कुछ तस्वीरें भेजी गई है जिसमें उसे बंधक बनाया गया था। मुंह बांधा हुआ था और सिर से खून निकलता हुआ दिखाई दे रहा था। तस्वीरें देखने के बाद घर में कोहराम मच गया और पिता पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। अब इस मामले जो खुलासा हुआ उसने सबको चौंका दिया है। दरअसल, युवती ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर यह साजिश रची थी।

काजल ने रची अपने अपहरण व हत्या की साजिश
सीओ सुमित शुक्‍ला ने बताया कि 10 सितंबर को रहस्यमय परिस्थितियों में गायब हुई युवती को गोरखपुर पुलिस ने बरामद कर लिया है। घटना का खुलासा करते हुए उन्होंने बताया कि करीब डेढ वर्ष पूर्व काजल की स्टार मेकर ऐप के जरिए आगरा जनपद के खनदौली निवासी हरिमोहन शर्मा से दोस्ती हो गई। धीरे-धीरे ये दोस्ती प्यार में तबदील हो गई। इस दौरान काजल 18 व 19 मार्च को दो बार हरिमोहन से मिली भी। बकौल काजल उसके पिता आए दिन उसे प्रताडित करते और ताने मारते थे। जिसके बाद उसने हरिमोहन से मिल कर 15 दिन पहले अपने अपहरण व हत्या की कहानी रची।

फुफेरा भाई काजल को देता था पुलिस की लोकेशन
सीओ ने बताया कि पिता को छोड कर परिवार के सभी सदस्यों को इस प्रेम कहानी के बारे में मालूम था। देवरिया जनपद अन्तर्गत रुद्रपुर कोतवाली के ग्राम बासपार निवासी उसका फूफेरा भाई रजतमणि काजल को पुलिस और घर की हर गतिविधि को बताता था। जिसके आधार पर दोनों अपनी लोकेशन बदल देते थे। पुलिस को शक हुआ और परिजनों व रिश्तेदारों के मोबाइल को सर्विलांस पर लगा दिया। जिसके जरिए पुलिस को रजतमणि के काजल के संपर्क में होने की जानकारी मिली। पुलिस के दबाव को देखते हुए दोनों भाग कर गोरखपुर आए जहां पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

जानिए क्या है ये पूरा मामला
चौरीचौरा क्षेत्र के हरिओमनगर में रहने वाले अनिल पांडेय सेंट्रल एकेडमी में शिक्षक है। उनकी बेटी काजल भोपा बाजार स्थित एयरटेल कंपनी के ऑफिस में कार्यरत हैं। मंगलवार की सुबह उसने पिता को बताया कि वहां पर लोगों का बर्ताव ठीक नहीं है और आज वह हिसाब करने जा रही है। इसके बाद से ही वह घर नहीं लौटी। परेशान पिता ने शाम को फोन पर संपर्क करने की कोशिश की तो फोन स्विच ऑफ आया। थोड़ी देर बाद पिता के व्हाट्सएप पर काजल के नंबर से कई फोटो और एक संदेश आया।

व्हाट्सएप पर लिखा मिला ये संदेश
संदेश में लिखा था कि मैंने अपना बदला ले लिया और फोटो में उसके मुंह और हाथ को बांधा गया था। सिर से खून भी बहता दिखाई दे रहा है। पुलिस तहरीर के आधार पर अपहरण का केस दर्ज कर मामले की छानबीन शुरू कर दी है। वहीं, पिता ने साथी कर्मचारियों पर संदेह जाहिर किया है। उनका कहना है कि बेटी ने बताया कि साथियों का बर्ताव ठीक नहीं है। इसी वजह से उसने काम छोड़ने का भी फैसला किया था। मंगलवार को वह इसी काम के लिए गई थी।