ग्राम पंचायत समदार बुजुर्ग के नंदलाल मौर्य को बड़ी राहत मिली है। बिजली निगम के अफसरों ने मंगलवार की सुबह उनके एक करोड़ के बिल में संशोधन कर उसे महज 770 रुपये कर दिया है। आपके अपने अखबार 'हिन्दुस्तान' ने नंदलाल को भारी भरकम बिल मिलने की खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया था। सौभाग्य योजना के तहत ग्राम पंचायत समदार बुजुर्ग निवासी सब्जी विक्रेता नंदलाल मौर्य को बिजली का कनेक्शन मिला था। 
दस माह का बिल एक करोड़ तीन लाख मिलने के बाद सब्जी विक्रेता दम्पति के पैरों के नीचे की जमीन खिसक गई। परेशान नंदलाल बिल को लेकर वह विद्युत उपकेंद्र भटहट पहुंचे तो कर्मचारियों ने नियम कानून बता कर लौटा दिया। नंदलाल और उनकी पत्नी की आंखों से नींद गायब हो गई। नंदलाल और उनकी पत्नी जीरा देवी ने ‘हिन्दुस्तान से बातचीत में बताया कि उनके पास महज 30 डिसमिल जमीन है। इसे बेचने के बाद भी बिजली का बिल भुगतान नहीं हो पाएगा।
मंगलवार के अंक में आपके अपने अखबार 'हिन्दुस्तान' ने ‘सब्जी विक्रेता को थमाया एक करोड़ का बिल, शीर्षक से खबर प्रकाशित की तो बिजली निगम के अफसर हैरान रह गए। आनन-फानन में बिजली निगम के अफसरों ने मंगलवार की सुबह ही बिल में संशोधन कर उसे महज 770 रुपये कर दिया गया। सुधार के बाद दम्पति को नया बिल मिला तो उनके चेहरे खुशी से चमक उठे। खुशी के मारे उनकी आंखों में आंसू आ गए। ग्रामीणों ने उनका यह हाल देखा तो सभी ने एक स्वर में कहा... एक गरीब का भला हो गया नहीं तो कैसे बिल का भुगतान कर पाता। उपस्थित ग्रामीणों के साथ ही पीड़ित दम्पति ने 'हिन्दुस्तान' अखबार के प्रति आभार जताया।