जहां बूंद-बूंद को तरस रहे थे लोग, वहां हैण्‍डपम्‍प अपने आप देने लगा है पानी

कभी बूंद-बूंद पानी को तरसने वाला बुन्देलखंड का ललितपुर जिला आज पानी से लबालब बना हुआ है. कभी सूखे की मार झेलने वाले ललितपुर जिले के हैंडपंप पानी की जगह हवा छोड़ा करते थे, आज तस्वीर बिल्कुल अलग हैं आज वहां बिना चलाए हैंडपंप से पानी निकल रहा है.
दरअसल, लगातार बारिश के चलते जिले के सभी बांध पूरी तरह से भरे हुए हैं तो वहीं जिले में वॉटर लेबल भी काफी बढ़ गया है. आलम यह है कि जिले के महरौनी तहसील अंतर्गत विजय पठापुरा ग्राम में एक हैंडपंप लोगों के लिए कौतूहल का विषय बना हुआ है.
सूख चुके हैंडपंप में लगातार बिना चलाए पानी निकाल रहा है, जिसको देखने के लिए लोगों की भीड़ लगी हुई है. वॉटर लेबल ज्यादा बढ़ जाने के चलते यह स्थिति बनी हुई जिले के बहुत से कुएं और हैंडपंप ऐसे हैं, जो कभी सूख चुके थे आज वह कुदरत के वरदान से सराबोर हो गए हैं. इस बेशकीमती पानी को सहेजने के लिए शासन स्तर पर किसी भी प्रकार का इंतजाम न किए जाने की वजह से ये पानी बर्बाद हो रहा है.