प्रेमिका बना रही थी शादी का दवाब, इसलिए प्रेमी ने प्रेमिका के साथ पत्थर से कर दिया ऐसा काम...

22 सितंबर को भालूमाड़ा थाना के ग्राम चुकान में 17 वर्षीय किशोरी की हत्या के मामले में भालूमाड़ा पुलिस ने २५ दिन बाद हत्यारा आरोपी वीरेंद्र उर्फ वीरू मेहरा पिता जुगराज चंद्रा निवासी आमाडांड को गिरफ्तार किया है। पूछताछ में आरोपी ने हत्या कबूल किया। जहां पुलिस ने उसे न्यायालय पेश किया है। अंधी हत्या के मामले में पुलिस अधीक्षक किरण लता केरकेट्टा व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अभिषेक राजन के दिशा निर्देश में साइबर सेल की मदद पर विवेचना प्रारंभ की गई। 
जिसमें हत्या के आरोपी की गिरफ्तारी के साथ कारण प्रेम प्रसंग सामने आया। एएसपी अभिषेक राजन के अनुसार प्रारंभिक जांच में व घटनास्थल पर मृतिका के शरीर पर चोट के निशान से यह आशंका जाहिर की जा रही थी कि यह हत्या का मामला है। मेडिकल रिपोर्ट में भी मृतिका के सिर में चोट लगने और खून बहने से मौत का कारण बताया गया। हत्यारा वीरेंद्र उर्फ वीरू मेहरा का चुकान में उसकी मौसी का घर आना-जाना था। इसी बीच उसकी पहचान किशोरी से हुई और वह पहचान प्रेम प्रसंग में बदल गई। 

दोनों के बीच मोबाइल से बातें हुआ करती थी और इस बीच कई बार वीरेंद्र किशोरी से मिलने उसके गांव आता रहा। 21 सितम्बर की रात भी किशोरी ने उसे फोन करके बुलाया था। रात लगभग 10 बजे युवक के आने पर किशोरी ने अपने साथ में ले जाने की बात कह जिद करने लगी। वीरेंद्र को डराने के लिए अपने हाथ से ही अपने दूसरे हाथ की कलाई को काटा था। इस बात को लेकर दोनों के बीच नोकझोंक भी हुई। वीरेंद्र ने समझाते हुए दो-चार दिन बाद ले जाने की बात कही थी। लेकिन किशोरी मानने को तैयार नहीं हुई। 
दोनों में विवाद कर झूमा झपटी तक पहुंच गया। इससे नाराज वीरेंद्र ने पास ही पड़ा पत्थर उठाकर किशोरी के पीछे सिर पर दे मारा। जहां किशोरी बेसुध होकर गिर गई। वीरेंद्र डर से भाग गया। थोड़ी देर बाद पुन: साइकिल से वापस आया और मृतिका के पास रखा उसका मोबाइल लेकर वहां से अपने घर चल दिया। घर जाते रास्ते में आमाडांड सेमरहाई तालाब में किशोरी का फोन फेंक दिया। कॉल डिटेल के आधार पर सायबर सेल ने आरोपी की शिनाख्ती की, जहां संदेह के आधार पर युवक को अभिरक्षा में लेकर पूछताछ की गई।