बिचौलिए की मदद से हुई थी शादी तो डेढ़ महीने बाद लड़की हुई फरार, बोली-तुम्हारे साथ मुझे…

हम जब अपने देश भारत की बात करते है तो यहाँ शादी के रिश्ते को काफी पवित्र माना जाता है और साथ साथ जीने मरने की कसमें खाने की वजह से इसका महत्व और भी काफी बढ़ जाता है पर तब क्या हो जब आपको पता चले कि शादी के बाद पत्नी धोखे बाज़ निकले और शादी के दूसरे दिन ही घर छोड़ कर भाग निकले। हाल में ही एक ऐसी घटना राजस्थान से सामने आई है जहाँ शादी के बाद घर बसाने के सपने सँजोये एक व्यक्ति ने दलालों के चंगुल में फँसकर अपना धन दौलत और इज़्ज़त सब कुछ नीलाम कर दिया। बेहद ही अजीबो गरीब घटना के बारे में आपको विस्तार से बताते है…
आपको बता दे कि यह पूरा मामला उबला के बालाजी का है जहाँ पिछले सोमबार को लोगो ने काफी ज्यादा हंगामा किया। लोगो के मुताबिक कुछ दिन पहले ही राजस्थान के रहने वाले विनोद की शादी चंडीगड़ के रहने वाली करमजीत के साथ हुई थी पर यहाँ गौर करने वाली बात ये है कि दोनों पक्ष के लोगो के यह आरोप दलाल के ऊपर लगाया कि उसने दोनों से पैसे लेकर शादी की तारीख और सारी रस्मों को फिक्स कर दिया। शादी विधिवत तरीके से सम्पन्न हुई पर शादी के बाद करमजीत ने पति के सुहाग की निशानी को उसके हाथों में सौप कर अपने माँ के पास वापस चली गयी। इसके पीछे उसकी यह दलील थी कि वह अब उसके साथ नही रह सकती जिस वजह से वह वापस अपनी माँ के पास पंजाब जा रही है।

दलाल के मार्फ़त हुई शादी
एक तरफ शादी के बाद पत्नी के जाने और दूसरी तरफ शादी के लिए पैसे देने के गम ने विनोद को पूरी तरह से तोड़ डाला। विनोद सैनी ने मीडिया के सामने घटना को व्याख्यान करते हुए बताया कि वह काफी वक्त से शादी करने की सपने सँजोये बैठा था पर किसी लड़की की रिश्ता न आने की वजह से उसे मजबूरन दलालो के हाथों पैसे देकर शादी करने को राजी होना पड़ा। अग्रीमेंट के मुताबिक यह बात तय हुई कि उसे 1.30 लाख रुपये बाबूलाल और अनिल को देने है पर यह राशि थोड़ी कम होकर 1.15 लाख पर आ गयी। शादी की राशि मिल जाने के बाद 24 नवंबर 2017 को शादी करमजीत कौर के साथ करा दी गयी।

घर छोड़ कर भागी वाइफ
कुछ वक्त तक घर मे खुशी खुशी रह रही करमजीत अचानक से एक दिन घर से गायब हो गयी। विनोद के मुताबिक उसने एक दिन अपनी पत्नी को बाल्टी भर पानी लाने को कहा था जिस कारण उसकी पत्नी बाहर गयी पर वापस ही नही लौटी। काफी खोजबीन के बाद भी जब करमजीत का पता नही लगा तो उसने उसके करमजीत के घर जाने का फैसला लिया और जब वह उसके घर पहुँचा तो करमजीत वही मौजूद थी। विनोद को कुछ वक्त के लिए सुकून तो मिला पर उसे क्या मालूम था कि आनेवाली कुछ पल में उसके पैरों तले जमीन ही खिसक जाएगी। बातचीत के दौरान जब करमजीत ने वापस विनोद के घर जाने से मना कर दिया तो उसे बहुत बड़ा झटका लगा और उसने किया ऐसा कुछ…

पुलिस भी रही विफल
पत्नी की घर वापस न आने की जिद की वजह से विनोद परेशान हो गया जिसके बाद उसने इस घटना की सूचना पुलिस को देने की ठानी जिसके बाद पुलिस ने इस मामले की तह तक जाकर इसकी तहकीकात की। तहकीकात में सारी बात सामने आयी कि दलाल ने करमजीत को शादी के बाद 45 दिनों तक विनोद के घर मे रहने को कहा था और उसका अनुसरण करते हुए करमजीत ने 48वें दिन मौका मिलते ही वहाँ से फरार होने में कामयाब हो पाई । तहकीकात में बातों को सामने आने के बाद पुलिस ने दोनों दलाल और उसकी पत्नी को गिरफ्तार कर कोर्ट के सामने पेश किया जहाँ से करमजीत और उन दलालो को निजी मुचलके पर जमानत मिल गयी। एक बार फिर से सभी लोग आजाद घूम रहे वही विनोद की दुनिया ही लगभग उजड़ सी गयी।