आवारा कुत्तों ने खोली इनकी पोल, दोनों को मारकर ठिकाने लगाने निकले थे और फिर जो हुआ

हरियाणा के जिला पलवल में एक पिता व सौतेली मां व पिता की करतूतों की पोल गली के अवारा कुत्तों ने कर दी। दोनों अपनी डेढ़ साल की बच्ची की हत्या कर उसके शव को ठिकाने लगाने के लिए निकले थे। बीच रास्ते में गली के आवारा कुत्तों ने घेर लिया, जिस कारण वे दोनों हताश होकर शव नुक्कड़ पर ही छोड़ कर भाग गए थे। हालांकि बच्ची की हत्या करने वाले इस जोड़े को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।
इस मामले की जानकारी देते हुए डीएसपी यशपाल खटाना ने बताया कि एक अक्टूबर की सुबह पुलिस को सूचना मिली कि शेखपुरा मौहल्ले में गली के नुक्कड़ पर बैग में एक बच्चे का शव पड़ा हुआ है। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और बैग में देखा तो उसमें करीब डेढ़ वर्ष की बच्ची का शव था। शव कंबल व नाइटी में लिपटा हुआ था। पुलिस बैग में मिली नाइटी के आधार पर ही बच्ची के हत्यारों तक पहुंची। 

डीएसपी ने बताया कि जिला देवरिया निवासी दलिप शेखपुरा मौहल्ले में किराए के मकान में रहता है और खाती (कारपेंटर)का काम करता है। डेढ़ वर्ष दलिप की पूर्व पत्नी पुष्पा ने बच्ची को जन्म दिया, लेकिन जन्म देने के तुरंत बाद पुष्पा की मौत हो गई। पुष्पा की मौत के एक-दो माह बाद ही दलिप ने अपनी किसी रिश्तेदारी की लड़की रीतू से लैव मैरिज कर ली। शादी के बाद रीतू ने एक बच्चे को जन्म दिया, जो फिलहाल चार माह का है। तभी से रीतू उसकी पहली पत्नी की डेढ़ वर्ष की बच्ची जुही से नफरत करने लगी और रोजाना उसके साथ मारपीट करती थी।
पुलिस पुछताछ में दलिप ने बताया कि उसकी दूसरी पत्नी ने 29 सिंतबर को जुही के साथ मारपीट की और उसने व उसकी पत्नी ने उसके सीने पर पैर रखकर दिया। जिससे जुही की मौत हो गई। जुही की मौत के बाद 29 व 30 सितंबर को उसके शव को कंबल में लपेटकर घर में ही बनी अलमारी में छुपाए रखा, लेकिन जब शव से बदबू आने लगी। तो दोनों ने शव को ठिकाने लगाने का प्लान बनाया और एक अक्टूबर को शव को गली के कोने पर रखकर फरार हो गए। बताया जा रहा है कि शव को ठिकाने लगाने के लिए जब आरोपी एक अक्टूबर की सुबह करीब तीन बजे शव नहर में फैंकने के लिए चल दिए।रास्ते में दोनों को कुत्तों ने घेर लिया और उनपर भौंकना शुरू कर दिया। तो दोनों गली के नुक्कड़ पर बैग को रखकर फरार हो गए।