पति रोज करता था ऐसी डिमांड, पत्नी ने रात में ही कर दिया ऐसा काम, जानिए पूरा...

दरवाजे की कुंडी अंदर से बंद थी. कमरे में बगैर जाली लगी खिड़की के दरवाजे खुले थे. अंदर अंजली उर्फ वर्षा केसरी  का शव बेड के पास फांसी के फंदे से लटक रहा था. फैमिली मेंबर्स ने कमरे में लटकते उसके शव को देखा तो सन्नाटे में आ गए. खबर फैली तो मोहल्ले के लोगों की भीड़ लग गई. इस दौरान अंजली का पति भी घर पर नहीं था. जानकारी हुई तो करीब साढ़े दस बजे मायके वाले भी पहुंचे और बेटी की हत्या का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा किया. दूसरे पहर करीब तीन बजे मृतका के पिता ओमप्रकाश केसरी ने धूमनगंज थाने में तहरीर दी. पुलिस ने आरोपित पति, ससुर, सास व ननद के खिलाफ दहेज हत्या की रिपोर्ट दर्ज कर शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया.

आए दिन नशे में करता था पिटाई

कोरांव कस्बा निवासी ओमप्रकाश केसरी बड़े गल्ला व्यापारियों में से एक हैं. दो बेटों के बीच एक बेटी अंजली थी. अंजली की शादी उन्होंने धूमनगंज चकमुंडेरा निवासी अमित उर्फ अश्वनी केसरवानी से की थी. 2016 में शादी के बाद अंजली ससुराल आ गई. बताया जाता है कि पति अमित नशे का आदी था. वह आए दिन नशे में अंजली की पिटाई किया करता था. वह अंजली से दहेज कम मिलने की बात कह वह पैसे मंगाया करता था. सास व ससुर भी अमित का ही सपोर्ट किया करते थे. बात बेटी की थी, लिहाजा मायके वाले बीच-बीच पैसे देते रहे.

तो पति ने ही मार डाला
आरोप है कि कुछ दिन पूर्व ससुराल की ओर से बीस लाख रुपए की मांग की गई. यह पैसा मायके से मंगाने के लिए अमित उस पर दबाव बनाने के लिए मारता-पीटता था. इस प्रताड़ना में ननद भी परिवार का सपोर्ट करती थी. सोमवार रात वह नशे में पहुंचा और अंजली की जमकर पिटाई किया. आरोप है कि इसके बाद उसने अंजली की हत्याकर शव को फांसी के फंदे से लटका दिया. कमरे की कुंडी अंदर से बंद कर बगैर जाली वाली खिड़की के दरवाजे को खोलकर फरार हो गया. सुबह मायके वालों को अंजली की मौत की खबर मिली तो हंगामा मच गया.