चलती ट्रेन के बाथरूम में महिला के साथ हुआ ऐसा, बाथरूम काटने पर निकली बाहर...

भारत की रेल-सेवा हमेशा ही सुर्खियों में रहती है कभी ट्रेन के अंदर अश्लील काम, कभी अपनी लेट दिनचर्या और कभी आत्महत्या लेकिन इस बार ट्रेन के भीतर एक ऐसा कांड हुआ जिसके लोगों को अवाक होने पर मजबूर कर दिया. दरअसल एक महिला ट्रेन के टॉयलट में इस कदर फंस गई कि निकलना मुश्किल हो गया इससे पूरी बोगी में अफरातफरी मच गई और इसकी खबर रेलवे के अधिकारियों को दी गयी. घटना ने इतना बड़ा रूप ले लिया था कि बिना की हॉल्ट या स्टेशन के ट्रेन को फौरन रोकना पड़ा और ट्रेन को टॉयलेट को रोककर काटा गया. इस दौरान घंटो तक रेलवे यातायात भी बाधित रहा, चलिये जानते हैं पूरा मामला…
दरअसल यह मामला यूपी का है जहां कानड़ी की एक महिला अहमदाबाद सुल्तानपुर एक्सप्रेस के स्लीपर बोगी में सफर कर अमेठी की यात्रा पर थी. जब बरेली से खुली ट्रेन शाहजहांपुर के करीब पहुंचने वाली थी कि उस महिला के बेटे ने टॉयलेट जाने की बात कही तो वह उसे लेकर टॉयलेट पहुंची. अभी उसे इस बात की जरा भी खबर नही थी कि उसके साथ इतना बड़ा हादसा होने वाला है. हुआ यूं कि उसने जैसे ही टॉयलेट का दरवाजा खोला फिसलकर गिर पड़ी. उसने उठने की बहुत कोशिश की लेकिन तब तक उसके पैर पॉट के पाइप में अटक गयी.

महिला फंसी टॉयलट के पाइप में
इस हादसे से महिला भी पीड़ा में थी और शोर नही कर पा रही थी और उसी स्थिति में अटकी रही. मामले का खुलासा तब हुआ जब एक दूसरी महिला टॉयलट के अंदेशे से वहां पहुंची तो उस महिला को ऐसे दर्दनाक स्थिति में पाया. बताया गया है कि इस बात की झाबर उसने फौरन बोगी के टीटी को दी और चेन खींचने की मांग की. आपको पता होगा कि चेन पुलिंग सिर्फ आपातकाल की स्थिति में ही होता है और यह मामला भी कुछ इस तरह ही था इसलिए टीटी ने खुद चेन खींचकर पहले ट्रेन को रोका और इस बात की सूचना कंट्रोल रूम तक पहुंचाया.

प्रशासन ने निकाला रास्ता
जैसे ही प्रशासन ने महिला को इस हालत में फंसा देखा उनके बीच उसे बचाने की होड़ मच गई पर लाख कोशिशों के बावजूद भी उसका पैर नही निकल पाया. कोई समाधान नही मिलते देख इस बात की खबर स्थानीय अधीक्षक ओमशिव अवस्थी को दी गयी तब उन्होंने उस ट्रेन को अपने स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर 1 पर लाने को कहा. करीबन 12 बजे अधिकारियों ने गैस कटर मंगवाकर उस पाइप को काटने का फैसला लिया और फौरन इसपर अमल किया गया.

पाइप को काटकर निकाली गयी महिला
पाइप के काटते ही महिला सुरक्षित निकाल ली गयी और उसका पति वहीं पर मौजूद था. तब उसके पति ने बताया कि वो दोनो एक आश्रम में काम करते हैं और लोगो की सेवा करना ही उनका काम है. अभी वे निहालगढ़ के लिए निकले थे कि बीच रास्ते मे उनके साथ इतना बड़ा हादसा हो गया. हालांकि अब वह महिला पूरी तरह सुरक्षित है बस पैर में थोड़े से जख्म हैं जो अधिक देर तक अटके रहने की वजह से आई है.