आधी रात को कमरे का दरवाज़ा बंद कर, पति ने किया पत्नी के साथ ऐसा कारनामा, जान कर हो जाएंगे दंग

अभी हाल में ही 3 माह पूर्व हुए एक गर्भवती महिला की हत्या की गुत्थी पुलिस ने सुलझाकर आरोपी को धर पकड़ने का दावा किया है. निर्मम तरीके से चाकू गोद कर अपनी ही पत्नी की हत्या करने वाला यह शख्स मदनमोहन जांगिड़ उर्फ लाला पुत्र गोवर्धन निवासी मसावता को पुलिस ने फरीदाबाद से गिरफ्तार किया. गिरफ्तारी के वक़्त यह शख्स फरीदाबाद के नवीनपुरी के पास करौली रोड केडेरी के आसपास रह रहा था. इस दानवी वारदात के बारे में पूरी तरह जानने के बाद आप भी सहम जाएंगे, चलिये जानते हैं पूरा मामला…
अमरगढ़ (सपोटरा) निवासी प्रियंका जागिड़ की शादी मसावता (सपोटरा) निवासी मदनमोहन से 30 जनवरी 2015 को हुई. शादी के बाद दोनों ने एक साथ खुशी खुशी काफी वक्त गुजारे. तकरीबन 6 महीने जिंदगी में साथ गुजारने के बाद प्रियंका अपने जेठ के साथ मनमोहन के घर ताजपुर रोड स्तिथ अपने मकान में रात के वक़्त आराम से सोई हुई थी. इस खबर से अनजान की उसके साथ आने वाले कुछ वक्त बाद कोई साज़िश होने वाली है. 17 दिसंबर की वो ठंडी रात के 2 बजे का वह वक़्त होगा जब प्रियंका का पति मनमोहन सीढ़ियों के सहारे घर के अंदर खुद को सबसे छुपते छुपाते किस गलत इरादे से घुस आया. घर मे घुसते ही उसने सबसे पहले प्रियंका के कमरे में घुस उसकी कुंडी अंदर से बंद कर ली. इसके बाद उसके पति ने जो किया उसकी किसी को कभी उम्मीद भी नही होगी.
दरवाजा के बंद होने के साथ ही उस कमरे से प्रियंका के चीखने चिल्लाने की आवाज़ आने लगी. चीखने चिल्लाने की आवाज़ सुनकर घर मे मौजूद किरायेदार की जब तक नींद खुली तब तक हत्या आरोपी मनमोहन वहाँ से सीढ़ियों के रास्ते भाग खड़ा हुआ. लोगों की नज़र में आने के पहले ही वह ओझल हो गया और ठंड के दिनों में घनी कोहरे के बीच रात को किसी को देखकर पहचान पाना असंभव सा था. दर्द से कराहती प्रियंका को देख किरायेदार महिला ने अपने पति रामसिंह मीना को नींद से जगाकर उन्हें मदद करने को कहा. पत्नी की बात सुनकर रामसिंह मीना ने तुरंत अपनी बाइक निकाल सबसे पहले उनके परिवार वालो के पास जाकर इस घटना की सूचना देने के लिए निकले. 
सुबह का सूरज निकलने के समय आसपास के लोगों को जैसे जैसे इस घटना की खबरे मिलती गयी वह लोग उक्त जगह पर इकट्ठा होकर पुलिस के आने का इंतज़ार करते रहे. दूसरी ओर दर्द से कराह रही प्रियंका को कोई अस्पताल तक पहुचाने की जहमत नही उठायी. पुलिस के घटनास्थल तक पहुचने के बाद पुलिस ने प्रियंका को सबसे पहले अस्पताल पहुँचाया और उसके बाद उस घटना की जांच शुरू की पर पुलिस के हाथ कोई सबूत न लग पाने की वजह से वह हर घटना की तरह अपने हाथ पर हाथ रखकर बैठी रही. वहीं लोगो का इस घटना के ऊपर कहना था कि पुलिस आरोपी को बचाने की कोशिश कर रही है और जब लोगो ने इस घटना का विरोध करना शुरू किया तो पुलिस एक बार फिर से हरकत में आई.
पुलिस ने हरकत में आने के साथ ही आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए दबिश देनी शुरू कर दी और आखिरकार पुलिस ने उसके पति मदनमोहन को डेल्ही के फरीदाबाद से गिरफ्तार कर लिया. गिरफ्तारी के बाद उसने अपने जुर्म भी कबूल कर लिये. उसके मुताबिक उसने ही रात के वक़्त चोरी चुपके प्रियंका के कमरे में घुस उसे धारधार चाकू से वार किया. उसने यह भी बताया कि प्रियंका प्रग्नेंट थी पर इस घटना के पीछे की वजह पुलिस ने अभी तक मीडिया के सामने नही रखा.