उम्रदराज दूल्हा देख मंडप से भाग गई दुल्हन, बोली कुछ भी हो जाए पर इससे नहीं करूंगी शादी

औरैया के भौंतापुर में एक नशेड़ी पिता ने अपनी पुत्री की शादी उसकी उम्र से दोगुनी उम्र के व्यक्ति से महज इसलिए तय कर दी, क्योंकि उसकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी। लड़की ने बरात आने पर दूल्हे की उम्र देखकर उससे शादी करने से ही इंकार कर दिया। जिस पर उसकी बड़ी बहन ने यूपी 112 पुलिस को फोन किया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने बेमेल शादी को रुकवा दिया।
इस पर बिना दुल्हन के बरात बैरंग वापस हो गई। अयाना क्षेत्र ग्राम भौंतापुर निवासी मनोरमा की शादी उसके पिता किशन मुरारी ने ग्राम बिलावा निवासी उसकी उम्र से लगभग दोगुनी उम्र के मुकुंदी पुत्र महाराज से तय कर दी। बुधवार की रात 20 नवंबर को बरात दरवाजे पहुंची। बौद्धधर्म की रीति से शादी की रस्में पूरी कराई जाने लगीं। यहां तक कि उक्त दूल्हे द्वारा दुल्हन के गले में मंगलसूत्र भी पहना दिया गया।
तभी दुल्हन की बहन सुनीता से मनोरमा ने दूल्हे की उम्र देख शादी करने से इंकार कर दिया। सुनीता ने तत्काल यूपी 112 पुलिस को फोन से सूचना दी। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे अयाना थाना इंचार्ज गया प्रसाद वर्मा ने मामले की जानकारी की। जहां लड़की ने उम्र से दोगुने बड़े लड़के से शादी करने से साफ इंकार कर दिया। लड़की ने कहा कुछ भी पर इससे शादी नहीं करूंगी। पुलिस ने लड़की की इच्छा के बिना शादी पर रोक लगा दी।
थोड़ी ही देर के बाद शादी में दुल्हन के गले में पहनाया गया मंगल सूत्र, बाली, पायलें, बिछिया व साड़ी को दूल्हा पक्ष को वापस कर दिया गया। उधर लड़की पक्ष के लोगों ने बताया कि लड़की के पिता की आर्थिक स्थिति अच्छी न होने के कारण उसके पिता ने नशे की हालत में यह रिश्ता तय कर दिया था। दोनों तरफ का खर्चा लड़के पक्ष की ओर से वहन करने की भी शर्त थी।
बता दें कि मनोरमा की मां रामश्री की 16 साल पहले मौत हो चुकी है। उसकी बहनों ने उसे पालकर बड़ा किया है। लोगों ने बताया कि मनोरमा की तीन बहनें अनीता, विनीता व सुनीता व एक भाई धर्मेंद्र है। अयाना थाना इंचार्ज गया प्रसाद ने बताया कि उन्हें इस संबंध में जानकारी होने पर वह मौके पर पहुंचे थे। किसी भी पक्ष की ओर से मामला दर्ज करने के लिए कोई लिखित शिकायत नहीं दी गई है।
इसलिए किसी भी पक्ष पर कोई कार्रवाई नहीं की गई। यदि किसी भी पक्ष से कोई लिखित तहरीर मिलती है तो उसी अनुसार आगे की कार्रवाई तय की जाएगी। अहम बात यह है कि शादी टूटने के बाद हलवाई रामकिशन पुत्र गंगाराम का 22 सौ रुपया, टेंट के 3940 रुपये छक्की लाल पुत्र लटूरी प्रसाद को नहीं मिले। इसपर बिचवानी बने मुकेश पुत्र रामनरायन निवासी बिलावा को उक्त लोगों ने पकड़ लिया और अपना मेहनताना वसूला।