दो दुल्हनों ने शादी के बाद किया ऐसा कारनामा, जानकर पुलिस भी दंग रह गई...जानें

राजस्थान के भरतपुर से दो दुल्हनों का ऐसा कारनामा सामने आया है जिसे जानकर आप दंग रह जाएंगे. यहां 13 नवंबर की देर रात दो दुल्हन ससुराल के लोगों को खाने में नशीला पदार्थ देकर बेहोश करने के बाद सोने के जेवर और नकदी लेकर फरार हो गई. लुटेरी दुल्हनों में से एक दुल्हन और उसकी सहयोगी महिला को आखिर 9 दिन बाद पुलिस गिरफ्तार कर लिया है. साथ ही इस गैंग के अन्य सदस्यों को भी गिरफ्तार किया है. फरार हुई लुटेरों दुल्हनों को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस टीम गठित की गई थी जिसने उत्तर प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा और उत्तराखंड के कई शहरों में दबिश दी, तब जाकर इनको गिरफ्तार किया गया.
यह पूरा मामला चिकसाना थाना क्षेत्र के गांव हथैनी का है. 8 नवंबर 2019 को दो सगे भाई नाहर सिंह और रमेश सिंह की शादी दो सगी बहनों सीमा और शिवानी के साथ हुई थी मगर शादी के महज 5 दिन बाद ही दोनों दुल्हनें, परिजनों को नशीला पदार्थ खाने में खिलाकर बेहोश कर घर में रखे सभी सोने के जेवरात और नकदी लेकर फरार हो गईं थी. दूसरे दिन सुबह होने पर घटना का पता चला, तब परिवार के सभी बेहोश लोगों को जिला आरबीएम अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उसके बाद लुटेरी दुल्हनों के खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज कराया गया जिसके बाद पुलिस की टीम गठित की गई. शादी कराने के बदले गैंग के मुखिया ने लड़कों के पिता अमर सिंह से 2 लाख रुपये पहले ही ले लिए थे. लूटे गए सोने के जेवरातों की कीमत करीब 6 लाख रुपये और नकदी 2 लाख दस हजार रुपये थी जिसे लेकर लुटेरी दुल्हनें फरार हो गई थी.
पुलिस जब उनको गिरफ्तार कर लाई तो चौंकाने वाले तथ्य सामने आए. दोनों दुल्हन आपस में बहन नहीं बल्कि गैंग की सदस्य हैं जो पहले से ही शादीशुदा हैं. शादी में दुल्हनों की भाभी बनने वाली महिला का नाम कमला देवी है, वह भी गैंग की सदस्य है. फिलहाल ये लोग उत्तर प्रदेश के बरेली के रहने वाले हैं जो पुलिस की दबिश के बाद अपने घरों के ताले लगाकर मौके से सभी सदस्य फरार हो गए. पुलिस की टीम फरार हुए गैंग के सभी सदस्यों की तलाश में जुटी हुई है और लूटे गए माल और नकदी को बरामद करने में जुटी हुई है. शादी के समय अपना नाम बताने वाली दुल्हन सीमा का वास्तविक नाम अंजलि है और दूसरी दुल्हन शिवानी का वास्तविक नाम भावना है. 
यह पहले से ही शादीशुदा हैं. यह गैंग में रहकर कुंवारे लड़कों के साथ झूठी शादी कर उनका माल लूटकर फरार हो जाती हैं. इस गैंग में सात सदस्य हैं जो फिलहाल फरार चल रहे हैं. सिर्फ अभी दो महिला ही पुलिस के हाथ लगी हैं. जानकारी के मुताबिक, एक गैंग है जो अपनी गैंग की लड़कियों की शादी उन लोगों से कराती है जिनकी शादी नहीं हो रही होती है. जिनकी उम्र भी काफी ज्यादा हो जाती है इसलिए कुंवारे लोग ज्यादातर इस गैंग के झांसे में आ जाते हैं और उनके द्वारा बताई गई लड़कियों से शादी कर लेते हैं. बाद में शादी के कुछ दिन बाद ही मौका देखकर वे दुल्हनें परिजनों को खाने में नशीला पदार्थ खिलाकर उनको बेहोश कर देती हैं और घर में रखे सभी सोने के जेवरात और नकदी को लेकर फरार हो जाती हैं.
गौरतलब है कि भरतपुर जिला जहां उद्योग धंधे नहीं होने और कृषि के लिए सिंचाई के पानी की व्यवस्था नहीं होने से यहां बेरोजगारी ज्यादा रहती है. इसी वजह से यहां के युवाओं की शादी नहीं हो पाती है. यहां कुंवारों की संख्या कुछ ज्यादा ही होती है. इसलिए उत्तर प्रदेश और हरियाणा के ठग गैंग के सदस्य इनको शादी कराने के नाम पर झांसे में ले लेते है और शादी कराकर उनके साथ ठगी कर देते हैं. यहां के जिन युवाओं की शादी नहीं होती है वे ज्यादातर इस तरह की गैंग के झांसे में आ जाते हैं और बिहार, उत्तर प्रदेश की ठग गैंग के जाल में फंसकर शादी कर लेते हैं. शादी के कुछ दिन बाद ही दुल्हनें सारा सामान और नकदी लेकर फरार हो जाती हैं जो इस ठग गैंग की कमाई का माध्यम है.