एक साल में इस डॉक्‍टर का सबकुछ हुआ बर्बाद, पति के एक गंदी आदत से हुआ सबकुछ खत्म...

गुरुग्राम के सेक्टर-43 में ड्रग्स का ओवरडोज लेने से एक महिला डॉक्टर की मौत का मामला सामने आया है। मृतक महिला डॉक्टर का नाम सोनम मोतीज (29 वर्षीय) है वो फोर्टिस गुरुग्राम में कार्यरत थीं। डॉ. सोनम मोतीज के पिता ने एम्स में कार्यरत सोनम के पति डॉ. शिखर मोर और उनके परिजनों के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का केस दर्ज कराया है। जानकारी के मुताबिक पुलिस ने शिखर और उसके परिजनों को गिरफ्तार कर लिया है। आपको बता दें कि सोनम पूर्व में एम्स की सीनियर रेजीडेंट डॉक्टर के तौर पर भी तैनात रही थीं और वहीं उनकी मुलाकात शिखर मोर से हुई थी। सोनम मूलरूप से राजस्थान के कोटा की निवासी थीं।

पलंग से नीचे बेसुध पड़ी थीं सोनम और वहां कुछ इंजेक्शन पड़े थे
फोरेंसिक विशेषज्ञ डॉ. पवन चौधरी ने बताया कि मौत का कारण ड्रग्स का ओवरडोज माना जा रहा है। पुलिस ने बताया कि डॉक्टर सोनम के पिता ने 18 नवंबर की शाम को उन्हें कॉल की लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया। इसके बाद उन्होंने फ्लैट के सुरक्षाकर्मी को फोन किया। उसने देखा तो सोनम पलंग से नीचे बेसुध पड़ी थीं और वहां कुछ इंजेक्शन पड़े थे। तब उसने कमरे में शव होने की सूचना दी। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और शव कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी।

शादी के बाद पता चली शिखर की ये आदत
पुलिस के मुताबिक कोटा राजस्थान निवासी ओंकार लाल मोतिस (65) ने बताया कि उनकी बेटी की शादी मथुरा निवासी डॉ. शिखर मोर के साथ 2018 में हुई थी। उन्होंने कहा कि शादी के बाद सोनम को पता चला कि शिखर नशा करता है और सोनम पर भी नशा करने का दबाव डालता था। ऐसा न करने पर उसके साथ मारपीट करता था। अप्रैल में उनकी बेटी की हालत खराब होने के कारण उसे अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। सितंबर 2019 में शिखर साउथ एक्सटेंशन स्थित घर से अस्पताल के हॉस्टल में रहने लगा और सोनम को घर से निकाल दिया। इस पर सोनम ने एम्स में नौकरी छोड़ दी थी।