थाना में 'गलत काम' पर नप गईं मैडम, गायब पत्नी की शिकायत लेकर आए युवक को रखी थीं उलझाकर

शिवपुरी जिले के फिजिकल थाना में गुरुवार की रात को एक घटना घटी थी। शिकायत पर कार्रवाई नहीं होने पर युवक ने थाने में ही पेट्रोल डालकर खुद को आग लगा ली थी। लेकिन पुलिस के अफसर उसे थानों के चक्कर लगवा रहे थे। थाना प्रभारी दूसरे थाना का मामला बता टालते रहे। अब जब मामले की जांच हुई तो फिजिकल थाना प्रभारी दीप्ति तोमर को निलंबित कर दिया गया है।
दरअसल, पुलिस ने पत्नी और बेटे की गुमशुदगी दर्ज नहीं की तो युवक ने पेट्रोल छिड़कर खुद को आग लगा ली। सीमा विवाद को लेकर पुलिस मामले को एक-दूसरे के थाने पर डाल रही थी। युवक इसी बात से परेशान था और फिर उसने फिजिकल थाना परिसर में खुद को आग लगा ली। एसपी ने फिजिकल थाना प्रभारी की लापरवाही मानते हुए उसे निलंबित कर दिया है।

ग्वालियर डीआईजी पहुंचे थे जांच करने

थाने में युवक के द्वारा खुदकुशी की कोशिश करने के बाद ग्वालियर डीआईजी एके पांडेय शुक्रवार शाम को मामले की जांच करने पहुंचे और युवक से चर्चा की। फतेहपुर में किराए के मकान में रहने वाले राजेश जाटव ने गुरुवार को सुबह पत्नी रानी, बेटे को पोहरी चौराहे से मनपुरा जाने वाली बस में बिठाया, लेकिन पत्नी वहां नहीं पहुंची। उसके बाद राजेश ने जब बस के कंडक्टर से पूछा तो उसने बताया कि पत्नी दो बत्ती तिराहा पर उतर गई।

गुमशुदगी की रिपोर्ट कराने पहुंचा थाना

उसके बाद राजेश पत्नी और बेटे की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराने फिजिकल थाने पहुंचा। वहां से उसे पुलिस ने कोतवाली क्षेत्र का मामला बताकर भेज दिया। थाने-थाने घूमकर परेशान हो चुके राजेश ने रात साढ़े दस बजे फिजिकल थाना परिसर में खुद पर पेट्रोल डालकर आग लगा ली। राजेश को झुलसी हुई हालात में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। पत्नी और बेटे को भी पुलिस ने ढूंढ निकाला। वह ससुराल न जाकर मामा के घर चली गई थी।