इंसानियत धर्म से बड़ी है। धर्म चाहे जो भी हो, बस सोच ऊंच-नीच से परे हो। जाति और धर्म से परे इंसानियत का ऐसा ही उदाहरण रामकोट तहसील (कठुआ जिला) के काह गांव में मूर्त रूप लेता नजर आया। यहां मुस्लिम मजदूरों ने गर्भवती महिला को चारपाई के जरिये कांधे पर बैठाकर अस्पताल पहुंचाने में मदद की। वह साढ़े तीन किलोमीटर पैदल चले और गर्भवती को एंबुलेंस में बैठाया और फिर जच्चा-बच्चा की सलामती की दुआ की। महिला ने बेटी को जन्म दिया है।
दरअसल, रामकोट के गांव काह के हरदेव सिंह की पत्नी राधू देवी शनिवार सुबह प्रसव पीड़ा से तड़प उठी। उसे तत्काल चिकित्सा सहायता की जरूरत थी। रामकोट के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में इतनी सुविधाएं नहीं हैं कि राधू को पर्याप्त इलाज मिल सके। परिवार के सदस्यों के पास एक ही चारा था कि उसे उप जिला अस्पताल बिलावर ले जाएं। वह भी करीब 35 किलोमीटर दूर। इसके पहले उन्हें वाहन पकडऩे के लिए साढ़े तीन किलोमीटर दूर धार रोड तक पैदल चलना था, वह भी ऊबड़-खाबड़ पगडंडी पर। पर कैसे, यह सोच-सोचकर परिवारवालों की भी हालत खराब हो रही थी। परिवार के लोग परेशान थे कि आखिर गर्भवती राधू को कैसे पहले धार रोड और फिर बिलावर में अस्पताल तक पहुंचाएं।

बात सरपंच दिनेश खजूरिया तक पहुंची तो उन्होंने सड़क बनाने के ठेकेदार विनोद खजूरिया से मदद मांगी। उन्होंने यह बात धार रोड से कछेड-तिलश तक सड़क बनाने के काम में लगे मजदूरों से साझा की। मजदूर अख्तर, बशीर अहमद, नजीर, मोहमद यूसुफ और पीडब्ल्यूडी कर्मचारी राजू महिला को गांव से धार रोड तक पहुंचाने के लिए बिना देरी किए तैयार हो गए। सभी मजदूर राधू को चारपाई के जरिये धार रोड तक पहुंचाया। परिवार के लोग एंबुलेंस से महिला को बिलावर अस्पताल में ले गए, जहां डॉक्टर पहले से महिला का इंतजार कर रहे थे।