वर्षों से चल रहे प्रेम प्रसंग के बाद गांव की युवती की शादी होने पर भी उसका पीछा न छोड़ने वाले प्रेमी पर प्रेमिका की संदिग्ध हाल में हुई मौत के बाद संकट गहरा गया है। बुधवार की देर रात प्रेमिका का शव लेकर धनघटा थाने पहुंचने वाला प्रेमी पुलिस की हिरासत में है। फिलहाल पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण खून की कमी से बीमार पड़ने से होना पुलिस बता रही है। इधर मृतका के परिजन हर हाल में आरोपी पर कार्रवाई कर जेल भेजने की जिद पर अड़े हैं।
संतकबीर नगर जिले में धनघटा क्षेत्र के एक गांव निवासी युवक और युवती का प्रेम जब 18 साल की उम्र में परवान चढ़ा तो दोनों ने एक साथ जीने-मरने की कसम खाली। अप्रैल-2019 में युवती की शादी उसके परिजन क्षेत्र के एक गांव के रहने वाले युवक से कर दी। ससुराल जाने के दो दिन बाद प्रेमिका प्रेमी के साथ ससुराल से भाग गई। पुलिस के अनुसार प्रेमी-प्रेमिका कानपुर में रहने लगे और कोर्ट मैरिज कर ली। इसका कागजात पुलिस के अधिकारियों के पास डाक से भेज दिया था।

पुलिस के मुताबिक दस दिसंबर की रात प्रेमिका की तबीयत अचानक बिगड़ी तो प्रेमी उसे कानपुर मेडिकल कॉलेज में इलाज के लिए ले गया, जहां डॉक्टरों ने खून की कमी बताते हुए खून की मांग की तो खून प्रेमी उपलब्ध नहीं करा सका। उसके बाद उसे लेकर कमरे पर चला गया और फिर दोनों साथ घर लौटने लगे। रास्ते में प्रेमिका की मौत हो गई। इधर मौत की जानकारी जब युवती के मायके और ससुराल के लोगों को हुई तो वह थाने पर पहुंच गए। पुलिस के दबाव पर प्रेमी प्रेमिका का शव लेकर बुधवार की देर रात थाने पर पहुंच गया। उधर मृतका के परिजन बेटी की हत्या का आरोप प्रेमी पर लगाते हुए हत्या का केस दर्ज करने की मांग कर रहे हैं। इस घटना के बाद युवती के मायके और प्रेमी के परिजनों के बीच तनाव उत्पन्न हो गया है।

एसओ रणधीर कुमार मिश्र ने बताया कि युवती की मौत का कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट में आपराधिक नहीं आया है। खून की कमी होना उसकी मौत की वजह है। दोनों बालिग थे और कोर्ट मैरिज कर चुके थे, लेकिन मृतका के परिजन पुलिस की कहानी को गलत बताते हुए बेटी की मौत की वजह हत्या ही बता रहे हैं। उनका कहना है कि बेटी को लेकर जब युवक फरार हुआ था, तभी कई प्रार्थना पत्र थाने समेत पुलिस के अधिकारियों को दिया गया था।