भरतपुर के नदबई कस्बे में रविवार शाम पुलिस थाने के सामने हिस्ट्रीशीटर विजयपाल सिंह की गोली मारकर हत्या करने के मामले में पुलिस ने सभी आरोपियों को सोमवार तड़के अभियान चला धरदबोचा। इसमें हरियाणा के फरीदाबाद जिले के बल्लभगढ़ निवासी 26 वर्षीय हिमांशु ठाकुर शॉर्प शूटर भी शामिल है, जिसे वारदात को अंजाम देने के लिए बुलाया गया था। जबकि तीन अन्य आरोपी योगेन्द्र उर्फ मास्टर, मोहित उर्फ मोनू शर्मा व रोहतान जाट नदबई थाना क्षेत्र के निवासी है।
हत्या की वजह मृतक हिस्ट्रीशीटर के गांव मांझी निवासी पकड़े आरोपी रोहतान के साथ आपसी रंजिश बताई जा रही है। उधर, एसओजी की पूछताछ में सामने आया कि शॉर्प शूटर हिंमाशु ठाकुर दिल्ली में डीटीसी की बस चलाता है। उसने वर्ष 2013 में प्रेम विवाह किया था, जिस पर आरोपी रोहतान पक्ष ने उसकी मदद की थी और गांव में उसे शरण भी दी थी। इसके बाद से वह गांव मांझी आता रहता था। 

आरोपी रोहतान ने ही शॉर्प शूटर को हिस्ट्रीशीटर की हत्या करने के लिए बुलाया था। एसपी हैदरअली जैदी ने बताया कि मृतक विजयपाल जयपुर के शिप्रापथ थाने का हिस्ट्रीशीटर है और गत दिनों ही जमानत पर जयपुर जेल से बाहर आया था। विजयपाल ग्राम पंचायत बहरामदा से अपनी पत्नी को सरपंच पद का चुनाव खड़ा कर रहा था। सोमवार भरे जाने वाले नामांकन से पहले वह रविवार को थाने के पास मिठाई की दुकान पर एक विक्टंल समर्थकों के लिए मिठाई खरीद की बात कर रहा था।
Loading...