शादी की डोली के बदले निकली अपर्णा की अर्थी, खुशनुमा घर शोक में डूबा....

आरा के कोईलवर थाना क्षेत्र के धनडीहां गांव निवासी 19 वर्षीय इंटर की छात्रा अपर्णा कुमारी को क्या पता था कि शादी की डोली के पहले ही उसकी अर्थी निकल जाएगी। लेकिन, शायद होनी को यहीं मंजूर था। धनडीहां बालखंडी नाथ मंदिर के समीप नशे में धुत बोलेरो चालक ने कुचलकर जान ले ली। जिस घर के आंगन में कल तक शादी को लेकर मांगलिक गीत गाए जा रहे थे वहां रविवार को दूसरे दिन भी कोहराम मचा हुआ था। परिजनों के क्रंदन से संपूर्ण टोले का माहौल गमगीन हो गया था। पड़ोस की महिलाओं के अलावा सगे-संबंधी स्वजनों को ढांढस बंधाने में लगे हुए थे। सबकी आंखें नम थी। सभी इस हादसे से काफी मर्माहत थे। रविवार की सुबह करीब दस हादसे की शिकार अपर्णा के शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल,आरा लाया गया। जहां, पर पोस्टमार्टम के बाद परिजन पुन: शव लेकर गांव चले गए। शव पहुंचते ही कोहराम मच गया।
जिस पिता को करना था बेटी का कन्यादान उसी को देनी पड़ी मुखाग्नि बताया जाता है कि कोईलवर थाना क्षेत्र के धनडीहां गांव निवासी मुरारी साव को तीन पुत्रों निखिल कुमार, नीरज कुमार, नवीन कुमार के अलावा दो पुत्री संध्या और अपर्णा कुमारी थी। भाई और बहनों में अपर्णा कुमारी तीसरे नंबर पर थी। बड़ी बेटी संध्या की शादी हो गई है।बहन में छोटी अपर्णा की शादी बड़हरा के बबुरा निवासी गणेश गणेश साव के पुत्र मुकेश साव के साथ तय हुई थी। 30 जनवरी को तिलक और चार फरवरी को शादी की तिथि तय हुई थी। शनिवार की शाम अपर्णा अपनी बड़ी बहन संध्या के साथ शादी विवाह को श्रृंगार के दुकान पर सामान खरीदने जा रही थी कि उसी दौरान शराब के नशे में धुत बोलेरो चालक ने दो बहनों समेत तीन को रौंद दिया था। जिसमें गंभीर रूप से घायल अपर्णा के अलावा एक और युवक विवेक शर्मा की मौत हो गई थी। जबकि, मृतका की बड़ी बहन संध्या अभी भी अस्पताल में इलाजरत है। जिस पिता को बीस दिनों बाद ही बेटी का कन्यादान करना था उसे रविवार को सोन नदी किनारे बेटी को मुखाग्नि देनी पड़ी। बेटी के वियोग में मां राज कुमारी देवी का रो-रो कर बुरा हाल था। आसपास के लोग ढांढस बंधाने में लगे हुए थे। शादी को लेकर घर में सगे संबंधी भी पहुंच गए थे। लेकिन, होनी को कुछ और मंजूर था।