बहन ने ही कराई भाई की निर्मम हत्या, प्रेमी के मिलकर सब कुछ किया, आखिर क्या था कारण...

सात साल के बच्चे की अपहरण के बाद हत्या का पुलिस ने चौंकाने वाला खुलासा किया है। पुलिस ने अंश की हत्या के आरोप में उसकी बड़ी बहन और उसके प्रेमी को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि तीन आरोपी अभी फरार है। पुलिस पूछताछ में मृतक की बहन ने बताया कि अंश ने युवक के साथ उसे देख लिया था। उसे लगा कि अंश उनकी पोल खेल देगा। इसलिए विकास उसे बाइक पर बैठाकर ले गया। आगे पहुंचकर उसे विकास सैनी, अनुराग, रोहित व रवि मिल गए। पांचों ने मिलकर उसकी गला घोटकर हत्या कर दी और शव को बोरे में बंद कर नदी किनारे दबा दिया था।
रामपुर के मसवासी थाना क्षेत्र के भूबरा मौहल्ला का है। वीर सिंह का सात साल का बेटा अंश 9 दिसंबर को दोपहर घर के बाहर खेलते समय गायब हो गया था। परिजनों ने उसकी तलाश की तो पता चला कि उसे कुछ लोग बाइक पर अपहरण करके ले गए हैं। परिजनों ने रिपोर्ट करा दी। बाद में अपहरणकर्ताओं ने 15 लाख रुपए फिरौती की मांग की तो परिजनों के होश उड़ गए। पुलिस अधीक्षक डॉ. अजयपाल शर्मा के निर्देश पर तीन टीमें बनाकर बच्चे की तलाश में जुट गईं। फिरौती के लिए जिस नंबर से फोन आया था, उसे पुलिस ने सर्विलांस पर लगाकर अपहरणकर्ताओं की तलाश शुरू की। पुलिस ने संदिग्ध लोगों की धरपकड़ की।
पुलिस फोन नंबर का पता लगाते हुए विकास मौर्य तक पहुंच गई। उसी ने फिरौती के लिए फोन किया था। अपर पुलिस अधीक्षक अरुण कुमार सिंह ने बताया कि विकास ने पूछताछ में जुर्म कुबूल कर लिया। भूवरा की एक युवती के विकास मौर्य से प्रेम संबंध थे। अंश ने युवक के साथ उसे देख लिया था। उसे लगा कि अंश उनकी पोल खेल देगा। इसलिए विकास सैना उसे बाइक पर बैठाकर ले गया। आगे पहुंचकर उसे विकास सैनी, अनुराग, रोहित व रवि मिल गए। पांचों ने मिलकर उसकी गला घोटकर हत्या कर दी। लाश को नदी किनारे झुंड के पास दबा दिया।