ईसानगर थाना क्षेत्र के संडौरा कलां गांव में हुई ग्रामीण की हत्या की गुल्थी आखिरकार सुलझ ही गई। पुलिस जांच में वह सच आखिर सामने आ ही गया। जिस तरफ हत्या के बाद ग्रामीणों ने इशारा किया था। हत्या के पीछे अवैध सम्बन्धों की दास्तान निकली। जिसमें पत्नी ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर पति का गला घोंटकर मार डाला था। पुलिस ने मृतक की पत्नी और उसके प्रेमी को जेल भेज दिया है।
ईसानगर थाना क्षेत्र के संडौरा कलां निवासी राममिलन (48) पुत्र बच्चा लाल का शव उसी के घर में चारपाई पर बरामद हुआ था। जिस बबतब मृतक की पत्नी ने कहा था कि राममिलन की मौत अत्यधिक शराब पीने की वजह से हुई है। पत्नी सुशीला पति के शव का पोस्टमार्टम भी नहीं कराना चाहती थी। शव चारपाई पर बरामद हुआ था और उसकी नाक से खून बहता हुआ देख ग्रामीणों ने दबी जबान पत्नी की साजिश की तरफ इशारा किया था। पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज करके शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था।
इस बीच एसएचओ सुनील कुमार सिंह ने जांच शुरू की तो तमाम रहस्य उजागर होते चले गए। पुलिस को पता चला कि मृतक जिला मुख्यालय पर अपने मकान का निर्माण करवा रहा था। जिसमें ईसानगर थाना क्षेत्र के  रामलोक मजरा ढखिनीया निवासी श्यामजी पुत्र सियाराम बतौर मेसन काम करता था। जो बाद में उसी मकान में रहने लगा। इस बीच सुशीला और श्यामजी का प्रेम प्रसंग परवान चढ़ने लगा। अब श्यामजी ने मकान का किराया देना भी बंद कर दिया था। राममिलन जब श्यामजी से किराए के पैसे मांगता तब उसकी पत्नी सुशीला बीच मे पड़कर बात खत्म कर देती। इस पर जब राममिलन को शक हुआ। तब वह पत्नी को गांव ले आया।
घटना वाले दिन पुलिस को घटना स्थल के पास श्यामजी की मौजूदगी के साक्ष्य मिल गए। साथ ही श्यामजी और सुशीला की लगातार वार्ता भी पुलिस की निगाह में आ गई।  इन सब साक्ष्यों के बूते पुलिस ने अपनी जांच आगे बढ़ाते हुए दोनों से पूंछताछ की तो  सुशीला और श्यामजी पुलिस के सामने ज्यादा देर टिक नहीं पाए। दोनों ने राममिलन को घर में ही गला दबाकर मारने का अपराध स्वीकार कर लिया। पुलिस ने दोनों को हत्या के अपराध में जेल भेज दिया है।