हत्याकर लटका दिया महिला का शव, पति को किया गया गिरफ्तार....उम्र था मात्र 20 साल!!!

हत्या के बाद खुशनुमा बानो (20) की बॉडी को फांसी के फंदे से लटका दिया गया। कमरे के दोनों दरवाजे खुले थे। उसके हाथ की स्किन लाल पड़ी हुई थी। ऐसा लग रहा था जैसे उसे पीटा गया हो गया। सूचना पर पहुंचे मायके वाले उसकी बॉडी को देखते ही चीख पड़े। भाई मो। हसनैन ने खबर पुलिस को दी। पुलिस पहुंची तो बॉडी को फांसी के फंदे से नीचे उतारा गया। इसके बाद पुलिस ने पोस्टमार्टम हाउस भेज दिया। भाई की तहरीर पर मामले में पति समेत छह लोगों के खिलाफ दहेज उत्पीड़न व हत्या का मामला दर्ज किया गया है।
प्रतापगढ़ जिले के कुंडा तहसील स्थित बाबूगंज बाजार मझिलगांव निवासी मो। रफीक का भरा-पूरा परिवार है। पत्‍‌नी रुखसाना बानो व एक बेटे और छह बेटियां हैं। उसने तीसरे नंबर की बेटी खुशनुमा बानो की शादी पिछले साल जून में नवाबगंज एरिया स्थित इमामगंज लालगोपालगंज के सरफराज उर्फ सेबू से की थी। गुरुवार को ससुरालवालों ने फोनकर मायके वालों को बताया कि उसने फांसी लगा ली है। यह सुनते ही सभी के होश उड़ गए। 

वह भागकर बेटी के घर नवाबगंज पहुंचे। भाई मो. हसनैन की मानें तो जिस कमरे में उसकी बॉडी फांसी के फंदे से लटक रही थी उसका दरवाजा पूरी तरह से खुला हुआ था। उसके हाथों की चुडि़यां ऊपर की तरफ थीं। पूरे हाथ की स्किन लाल पड़ी हुई थी। यह देख पूरा परिवार चीख पड़ा। सूचना पुलिस को दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने छानबीन की। कमरे में कोई सुसाइड नोट नहीं मिला। पुलिस की मौजूदगी में बॉडी को नीचे उतारा गया। इसके बाद पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

मृतका के भाई का आरोप है कि शादी के कुछ माह बाद से ससुराल वाले दहेज की मांग कर रहे थे। जबकि उन्हें शादी में तय की गई सारी रकम दे दी गई थी। मांग पूरी न होने पर वह बहन को मारा पीटा करते थे। पिता जी समझा-बुझा कर बहन को फिर भेज दिया करते थे। उसकी तहरीर पर पुलिस ने पति सरफरारज, देवर नियाज, सास, गुड्डा सहित कुल छह लोगों के खिलाफ रिपोर्ट रिपोर्ट दर्ज कर ली है।
Loading...