मवेशी लदे हुए मैजिक वैन की चपेट में आने से बालक की मौत पर काट दिया बवाल

बुधवार की देर शाम थाना क्षेत्र के राजगीर-गिरियक मार्ग स्थित महावीर हनुमान मंदिर चौक के समीप मवेशी लदे एक मैजिक वाहन की चपेट में आने से गिरियक रोड निवासी बबलू चौधरी की पत्नी की गोद में 14 माह के पुत्र अभय कुमार की मौत हो गई। वहीं वहीं बालक की मां भी घायल हो गई। जिसका इलाज चल रहा है। रात्रि गश्ती कर रहे पुलिस के साथ एसआई विवेकानन्द झा मौके पर ही स्थानीय लोगों की मदद से मैजिक वाहन को कब्जे में ले लिया। लेकिन चालक फरार होने में सफल रहा। 
बच्चे की मौत के बाद उसके अगले दिन गुरुवार की सुबह, शव को सड़क पर रखकर स्वजनों के साथ स्थानीय लोगों ने राजगीर-गिरियक तथा ब्लाक मोड़ को जाम कर दिया। जहां पुलिस और शासन के पदाधिकारी पहुंचे और जाम तुड़वाने का प्रयास किया। इस क्रम में मृत बच्चे के पिता कन्हैया उर्फ बबलू चौधरी ने बताया कि उनकी पत्नी गायत्री देवी गोद में बेटे अभय को लेकर बगल के सब्जी मार्केट में खरीददारी करने घर से निकली निकली थी तभी अचानक मवेशी लदा तेज गति से आ रहे मैजिक वाहन ने टक्कर मार दी। जिसमें मेरी पत्नी दूर जा गिरी और मेरा बेटा मैजिक वाहन के पहिए के नीचे आकर गंभीर रूप से घायल हो गया। 

बेटे और पत्नी को आनन-फानन में अनुमंडलीय अस्पताल राजगीर में इलाज के लिए भर्ती कराया गया। ना•ाुक स्थिति देखते हुए बेटे को सदर अस्पताल बिहारशरीफ रेफर कर दिया गया जहां उसने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। जबकि पत्नी गायत्री देवी का अभी अनुमंडलीय अस्पताल में इलाज चल रहा है। वहीं टक्कर मारकर भाग रहे मैजिक वाहन को देख स्थानीय युवकों ने उसका पीछा किया और आयुध निर्माणी नालंदा के गेट नंबर दो के पास उसे ओवर टेक कर पकड़ लिया। मगर चालक फरार होने में सफल रहा। मौके पर पहुंची पुलिस ने खलासी सहित वाहन को जब्त कर थाने ले गई। पीड़ित पिता ने राजगीर थाने में एफआईआर दर्ज कराई है। 

इधर सड़क जाम कर लोग मुआवजे के साथ दोषी वाहन चालक पर कार्रवाई के साथ महावीर हनुमान चौक के पास ट्रैफिक पुलिस व वाहन पार्किंग की मांग कर रहे थे। लोगों ने कहा कि इस मोड़ पर बेलगाम वाहनों तथा बेतरतीब तरीके से खड़े किए गए वाहनों के कारण ऐसी दुर्घटनाएं हो रही है। राजगीर थानाध्यक्ष संतोष कुमार व सीओ मृत्युंजय कुमार ने लोगों को सरकारी प्रावधान के तहत लाभ दिलाने का आश्वासन देकर जाम हटवाया। इधर, अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती बच्चे की मां गायत्री देवी का रो रो कर बुरा हाल है। परिजन उन्हें दिलासा देकर सुला देते हैं। पर नींद टूटते ही अपने बेटे के नाम के साथ पुकारते हुए वो चीख-चीख कर रोने लगती है। लोगों ने बताया कि तीन संतानों में दो बेटियों के बाद तीसरे संतान के रूप में पुत्र अभय का जन्म हुआ था और घर में सबका लाडला था।
Loading...