पढ़ाई के लिए विदेश गए युवक की हादसे में हो गए मौत, एक ही महीने बाद साइप्रेस से भारत पहुंचा शव...

विदेश में पढ़ाई के लिए 23 वर्षीय सतिंद्र की साइप्रस में एक हादसे में मौत हो गई। देर शाम उसका शव मुलाना पहुंचा। कुछ देर बाद ही युवक का अंतिम संस्कार कर दिया गया। इस दौरान भारी संख्या में ग्रामीणों ने युवक को नम आंखो से विदाई दी। करीब दो साल पहले सतिन्द्र चहल पढ़ाई के लिए साइप्रस गया था। उसकी पढ़ाई पूरी होने वाली थी लेकिन इससे पहले ही मौत ने उसे अपने आगोश में ले लिया। पता चला है कि 21 जनवरी को सतिन्द्र पर कोई भारीभरकम चीज गिर गई थी। 
काम के दौरान हुए इस हादसे में उसने दम तोड़ दिया था। लगभग एक महीन पहले सतिन्द्र को मौत की खबर उसके परिवार को दी गई। जिस के बाद सतिन्द्र के परिजनों ने भारतीय एंबेसी को सूचित कर आगामी कार्रवाई पूरी करने का आग्रह किया था। इसके बाद ही सतिन्द्र का शव भारत लाने की कवायद शुरू हुई। भारत से उसके दो रिश्तेदारों को साइप्रस से शव लेकर आने की अनुमति मिली थी। सतिन्द्र के पिता कुलवंत को तो इस अनहोनी पर विश्वास ही नहीं हो रहा है।

परिवार का उज्ज्वल भविष्य बनाने पंहुचा था विदेश
सतिन्द्र के दोस्तों का कहना है कि वह बहुत ही मिलनसार स्वभाव का था। उसके हर किसी के साथ मधुर संबंध बन जाते थे। सतिन्द्र का सपना विदेश में पढ़ाई कर अपना व अपने परिवार का भविष्य बनाएगा। इसलिए उस के परिजनों ने भी उस की विदेश में पढ़ने की इच्छा को स्वीकार कर लिया। लेकिन परिजनों को क्या मालूम था कि जिस आंखों के तारे को वह अपने से दूर भेज रहे है वह कभी वापस ही नही आएगा।
Loading...