महंगी गाडिय़ों को भी एक डेढ़ लाख में बेच देते थे और फिर जानिए कैसे...

दक्षिण जिला पुलिस के हत्थे चढ़े शातिर वाहन चोर महंगी गाडिय़ों को भी मामूली कीमत में बेच देते थे। 40 हजार से डेढ़ लाख रुपए की राशि लेकर के दलालों के मार्फत गाडिय़ां बेचते थे। अधिकांश गाडिय़ां भी तस्करी से जुड़े बदमाशों को बेचते थे और जोकि पुलिस दिखने पर गाड़ी छोड़कर फरार हो जाते थे। 
गौरतलब है कि दक्षिण जिले की डीएसटी टीम एवं मानसरोवर पुलिस ने रमेश मीणा उर्फ राहुल मीणा सहित पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया था। टीम ने उन्हें कालवाड़ रोड, दौसा से पकड़ा था। वह शहर में पॉश इलाके में फ्लेट में रहकर के वाहन चोरी की वारदात अंजाम देते थे। आरोपियों से पूछताछ में यह भी सामने आया है कि उदयपुर, पाली, उत्तरप्रदेश और पश्चिम बंगाल में दलालों को वाहन बेचते थे। 

आरोपी अपनी पत्नी के नाम पर खरीदी गाड़ी में घूमकर के रैकी किया करते थे। 10 से 20 लाख की गाड़ी को एक-डेढ लाख तो इससे सस्ती गाड़ी को 40-50 हजार रुपए में बेचते थे। वाहन चोरी के लिए एलन की साथ में रखते थे और वाहन के अनुसार उसे तैयार कर लॉक तोड़ते थे। लग्जरी गाडिय़ों के लॉक तोडऩे के लिए सॉफ्टवेयर की मदद से डिवाइस तैयार कर लेते थे। पुलिस ने दो और गाडिय़ां बरामद की है, जिनकी तस्दीक की जा रही है।
Loading...