भाई ही निकला भाई का कातिल, शराब पीकर रोज घर पर माता औए पिता को करता था परेशान, पुलिस ने फिर ऐसे सुलझाई गुत्थी

शराब के नशे में रोजना मृतक लखमूनाग आये दिन अपने बूढ़े माता-पिता को परेशान किया करता था और रोजना घर में लड़ाई झगड़ा का महौल रहता था। इससे तंग आकर आरोपी सामनाथ नाग ने अपने ही भाई को मौत के घाट उतार दिया। आरोपी को सुकमा न्यायालय में पेश कर जेल भेज दिया। 5 फरवरी को एक अज्ञात शव कुम्हारास के पास नदी घाट में मिला। जिसके बाद पुलिस ने नदी से शव निकालकर जांच पड़ताल करने में उक्त शव कुम्हारास के ही लखमू नाग के रूप में पहचाना गया। 
इसके पहचान उसकी पत्नी अंती नाग एवं मृतक के भाई सामनाथ नाग द्वारा की गई थी। जिसके बाद पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में जांच टीम गठित की गई। हत्याकांड के पूरे मामले को सुलझाने तथा आरोपी की पतासाजी व विवेचना में थाना प्रभारी एके नाग के नेतृत्व में टीम का गठन किया। घटनास्थल एवं मृतक दोनों कुम्हाररास के होने से हत्यारे के भी मृतक का परिचित एवं कुम्हाररास के होने के पूर्ण अंदेशा पर तथा मृतक के 2-3 दिन से लापता होने एवं शव बरामद होने पर उसी दिन पहचान नहीं करने, गुम होने की सूचना थाना में नहीं देने और मृतक के भाई आरोपी सामनाथ का पूछताछ के दौरान चेहरे में दु:ख व शिकन नहीं होने से पुलिस को मृतक के भाई पर संदेह हो गया था। 

पुलिस द्वारा मुखबीर तैनात कर मृतक के परिजन व संदिग्धों पर लगातार नजर रखकर जा रही थी। लगातार निगरानी के कारण आरोपी सामनाथ नाग ने प्रार्थी लच्छूराम पोडिय़ामी एवं अन्य गवाहों के समक्ष अपने द्वारा अपने छोटे भाई मृतक लखमू नाग की हत्या करना स्वीकार किया और इस संबंध मे पुलिस को नहीं बताने का आग्रह कर बस्ती वालों को 50-60 हजार रूपए देने का लालच दिया। बीते सोमवार की शाम 6 बजे मृतक लखमू नाग रोजना की तरह नशे में लत था और शबरी नदी की ओर जा रहा था। आरोपी ने पहले ही हत्या का प्लान बना रखा था। आरोपी सामनाथ कुल्हाडी लेकर मृतक के पीछे-पीछे गया। इस बीच मौका देखकर पीछे से लखमू पर वार कर दिया। उसके बाद मृतक को अपने गमछा से उसके गले और बांए पैर को बांधकर शव को शबरी नदी में बहा दिया। 

आरोपी ने बताया कि वह शव को किसी पत्थर के सहारे नदी में बांध कर पानी डाला चाह रहा था लेकिन कोई देख ना ले इसलिए जल्दबाजी में शव को पानी बहा दिया। दो दिन बाद शव के आसपास ही नदी के अंदर शव बरामद हुआ। आरोपी पर हत्या कर साक्ष्य छुपाने के लिए शव को नदी में बहाना पाए जाने पर धारा 302, 201 भादंवि के तहत अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना किया गया। आरोपी की निषानदेही पर थाना स्टॉफ एवं स्थानीय कुषल तैराको ंने शबरी नदी के गहरे पानी में से तलाश कर बरामद किया है। आरोपी ने घटना के समय पहने खून लगे हुए अपने कपड़े को धोकर रखना बताया था उसे भी वहां से बरामद किया गया। आरोपी ने गवाहों के समक्ष पूरे घटनाक्रम को रिक्रिएट करके दिखाया है। इस प्रकार विवेचना में आरोपी के विरूद्ध पर्याप्त साक्ष्य पाए जाने से आरोपी सामनाथ नाग को 8 फरवरी गिरफ्तार किया गया है।
Loading...