कोहरे ने छीन लिया दो परिवारों की खुशियां, मच गया चीत्कार

कोहरे ने छीन ली दो परिवारों की खुशियां, मची चीत्कार
अल्हागंज थाना क्षेत्र में चिलौआ गांव के मजरा सिद्धन मड़ैया के सामने रविवार सुबह हादसा हो गया। कोहरे ने दो परिवारों की खुशियां छीन लीं। बरेली के फतेहगंज पूर्वी के एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत से कोहराम मच गया। घटनास्थल पर पहुंचे परिजन शवों को देख बेहोश हो गए। साथ में आए लोगों ने सभी को संभाला और खुद भी खूब रोए। वहीं, घटनास्थल पर पहुंचे आसपास के लोगों की भी आंख नम हो गई।
सुरजीत चार भाइयों में बड़ा था। करीब तीन साल पूर्व उसकी शादी पीलीभीत जिले की रहने वाली ललिता से हुई थी। अभी सुरजीत की पत्नी को कोई बच्चा नहीं था। सुरजीत छोटे भाई विकास का बहुत प्रेम करता था। कहीं जाता था, तो उसे साथ ले जाता था। रविवार की सुबह जब सुरजीत गंगा स्नान को जा रहा था, तो उसके साथ उसका भाई विकास भी था, लेकिन अल्हागंज में सामने से आए काल ने दोनों की जिंदगी को छीन लिया। परिजनों के अनुसार सुरजीत की पत्नी ललिता और मां मुन्नी गुमसुम हो गई है। भाई रामजीत और अनुज गुमसुम हो गया है। नागेंद्र पाल सिंह खेतीबाड़ी करता था। रविवार की सुबह परिवार के सुरजीत व उसके भाई विकास के साथ गंगा स्नान को फर्रूखाबाद के पंचाल घाट जा रहा था। 

अल्हागंज में हुए हादसे में उसकी मौत हो गई। परिवार वालों ने बताया कि सूचना आने पर पहले, तो विश्वास नहीं हुआ, लेकिन जब बार-बार फोन आया, तब पूरा परिवार घटनास्थल की ओर दौड़ पड़ा। परिजनों ने बताया कि नागेंद्र की मां रेशमा गुमसुम हो गई है। पत्नी शानू को दोपहर बाद घटना की जानकारी हुई। परिवार की महिलाओं ने संभाला। थाना क्षेत्र में फर्रूखाबाद-बरेली हाइवे की बदहाल स्थिति की वजह से आए दिन हादसे होते हैं। हाइवे के फुटपाथ जर्जर है। गड्ढों की वजह से दो पहिया वाहन सवार हादसों का शिकार होते हैं। वर्तमान में हाइवे के किनारे अधिकांश जगह फुटपाथ गड्ढा युक्त है। अक्सर वाहन फिसल जाते हैं।
Loading...