चोरों ने काट दिया ओएचई लाइन, ट्रेन के पहिए थम गए....

दानापुर मंडल में गुरुवार रात चोरों ने दुस्साहसिक वारदात का प्रयास किया। इलेक्ट्रिफिकेशन कार्य में प्रगतिशील ताड़ीघाट-दिलदारनगर रेल लाइन पर ओएचईलाइन चोरी का प्रयास किया। इसके बाद कीमैन ने ताल काटे जाने की सूचना कंट्रोल रुम को दी। जानकारी पर टावर वैगन से मरम्मत की टीम पहुंची और ओएचई लाइन को दुरुस्त किया। रूट पर ओएचई काटे जाने के बाद ट्रेन का यातायात भी प्रभावित हुआ। आरपीएफ ने मेमो बनाकर मामले की जांच और चोरों की तलाश शुरू कर दी। गुरुवार को ताड़ीघाट ब्रांच लाइन पर नगसर हाल्ट से कुछ दूरी पर चोरों ने ओएचई तार को काट दिया।
लाइन में तार काटे जाने के बाद जानकारी पर की-मैन ने जांच की तो ताल झूलता मिला। कीमैन सुरेंद्र ने लटकते तार को देखा तो इसकी जानकारी कंट्रोल रुम और अधिकारियों को दी। सूचना मौके पर पहुंचे टावर वैगन के कर्मचारियों ने टूटे तार को जोड़ा। सेक्शन इंजीनियर अखिलेश कुमार ने आरपीएफ थाने में तार काटे जाने का लिखित मेमों भेजा। कंट्रोल से पहुंचे टावर वैगन टीम ने पूरे रूट पर ओएचई का जायजा लिया। इस दौरान ताड़ीघाट दिलदारनगर ट्रेन दो घंटे से अधिक विलंबित हो गई। जांच के बाद जाकर सुबह 8.10 बजे ताड़ीघाट जाने वाली डीटी पैसेंजर ट्रेन दो घंटे देरी से सुबह 10.12 बजे ताड़ीघाट को रवाना हुई।

सूचना मिलते ही दानापुर मंडल के आरपीएफ के सहायक सुरक्षा आयुक्त जेपी कुंडू दोपहर में दिलदारनगर स्टेशन स्थित आरपीएफ पोस्ट पहुंचे और मामले की जानकारी ली। निरीक्षक प्रभारी राकेश कुमार के साथ मौके पर निरीक्षण करने के बाद कार्रवाई और चोरों की तलाश की बात कही। रेल अधिकारियों ने बताया कि विद्युतीकरण के लिए जुटी टावर वैगन से स्टेशन प्रबंधक नफीस खान और आरपीएफ निरीक्षक राकेश कुमार विभागीय कर्मचारियों संग सुबह मौके पर पहुंचकर तार को जोड़ा। यदि रेलकर्मी जल्द ही सक्रिय नहीं होते तो ट्रेन और विलंब से स्टेशन पर पहुंचती।
Loading...